sukshmjatat_WM_With

उपासनाके नूतन उपक्रम ‘अपनी सूक्ष्म इन्द्रियोंको कैसे करें जागृत ?’ इसमें सहभागी हों !


आगामी आपातकालकी दृष्टिसे यदि प्रत्येक ग्राम एवं उपमंडल(कस्बेमें) ऐसे साधक हों, जिनकी सूक्ष्म इन्द्रियां जागृत हों, इस उद्देश्यसे यह उपक्रम आरम्भ किया गया है । आपको बता दें आगामी आपातकालमें सर्वत्र प्राकृतिक आपदाओंके एवं युद्धजन्य स्थितिके कारण संचार तन्त्र या तो नष्ट हो जायेगा या उसमें व्यवधान आएंगे या उसपर प्रतिबन्ध लगाया जाएगा । ऐसी स्थितिमें हमें ऐसे लोगोंकी आवश्यकता होगी जिनकी सूक्ष्म इन्द्रियां जागृत हों !
पूर्व कालमें सभी व्यक्तिके द्वारा वैदिक संस्कृति अनुसार आचरण एवं योग्य साधना करनेके कारण, उनके मन एवं बुद्धिपर काला आवरण नहीं हुआ करता था; अतः उनकी सूक्ष्म इन्द्रियां जागृत होती थीं । उपासनाके माध्यमसे यह उपक्रम कालानुसार आवश्यक है; इसलिए आरम्भ किया गया है । इस हेतु स्वयंपर क्या प्रक्रिया करनी चाहिए, इसे हम आपको चरण-दर-चरण सीखाएंगे; अतः जो भी व्यक्ति या साधक हमारे लेखों एवं सत्संगके नियमित पाठक या श्रोता हैं, वे हमें ९७१७४९२५२३ / 9717492523 “हम सूक्ष्म इन्द्रियोंको जागृत करनेकी प्रक्रिया सीखना चाहते हैं; अतः हमें जागृत भव’ में जोडें”,  यह लिखकर भेज सकते हैं ।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution