20190218_072901

भारतके आश्रयपर पलते आतंकी, देहरादूनमें राष्ट्रद्रोही कश्मीरी छात्राओंने की पत्थरबाजी, किए ‘पाक जिंदाबाद’के उद्घोष !!


फरवरी १७, २०१९


देहरादूनमें पढ रही कई कश्मीरी छात्राओंने छात्रावासकी छतसे विरोध यात्रामें उद्घोष करते हुए जाते लोगोंपर न केवल पत्थर फेंकें, वरन पाकिस्तानके समर्थनमें उद्घोष भी लगाए ! इसके पश्चात कश्मीरी छात्राओंके इस कृत्यसे क्रोधित वहांके स्थानीय लोगोंने छात्रावासको घेर लिया । ये घटना मांडूवाला रोडपर एक निजी संस्थानके पास बने छात्रावासकी है, जिसमें २४ कश्मीरी छात्राएं रहती हैं ।

प्रकरणमें बढते विरोधको देखकर पांच थानोंकी पुलिसको वहांपर बुलाया गया । पुलिसकी उपस्थितिमें इन छात्राओंद्वारा ‘भारत जिन्दाबाद’के उद्घोष लगानेके पश्चात प्रकरण शांत हुआ और भीड वहांसे हटी ।

इसके अतिरिक्त आतंकी आक्रमणके पश्चात प्रेमनगर क्षेत्रमें भी कुछ कश्मीरी छात्रोंके ऐसे लेख सामने आए, जिसमें सैनिकोंपर हुए आक्रमणका समर्थन किया गया था । यह तीनों ही छात्र प्रेमनगर थाना क्षेत्रोंके भिन्न-भिन्न संस्थानोंसे हैं । इन तीनों ही छात्रोंको इनके संस्थानोंसे निकाल दिया गया है ।

 

“एक ओर सेना अपने प्राणोंको संकटमें डालकर अनेक आपदाओंमें कश्मीरियोंकी रक्षा करती है तो दूसरी ओर यही लोग आतंकी समान सेनाका विरोध करते हैं ! इन घटनाओंसे स्पष्ट होता है कि किसप्रकार हमने मूढतापूर्ण ढंगसे राष्ट्रद्रोहियोंको आश्रय दिया हुआ है ! ऐसाप्रतीत होता है कि भारत इससे शिक्षा नहीं लेगा; क्योंकि यहांकी राजनीतिको कोढ लग चुका है  राजनेताओंमें राष्ट्रभावना व क्षमता ही नहीं बची है, अन्यथा इन आतंकी छात्रोंको कबका इनका वास्तविक स्थान दिखा दिया होता; परन्तु हम तो आतंकियोंके हाथमें कम्प्यूटर देनेकी बात करते हैं ! यदि कम्प्यूटर देनेसे ही बुद्धि परिवर्तित होती तो आज देशका ९०-९५ % युवा पथभ्रष्ट क्यों होता ? ईश्वर भरोसे ही यह राष्ट्र चल रहा है और अब ईश्वर ही स्वयं हिन्दू राष्ट्रकी स्थापनाकर इसका समाधान करेंगें !” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : ऑप इण्डिया



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution