गृह मन्त्रालयने ठुकराई थी ‘सीआरपीएफ’की हवाई यात्राकी मांग, ६ दिवस पूर्व मिल चुकी थी आक्रमणकी भनक !!!


फरवरी १६, २०१९


पुलवामामें हुए आतंकी आक्रमणमें ‘सीआरपीएफ’के ४० सैनिकोंके हुतात्मा होनेसे देशमें क्रोध और दुःखका वातावरण है । अब एक विवरणमें उजागर हुआ है और पुलवामा आतंकी आक्रमणमें सुरक्षाके स्तरपर चूक हुई है । ‘सीआरपीएफ’के एक सैनिकने पहचान उजागर ना करनेकी उपालम्बपर (शर्तपर) ‘द क्विंट’के साथ वार्तामें बताया कि ‘सीआरपीएफ’ने आक्रमणसे सप्ताह पूर्व ही गृह मन्त्रालयसे सैनिकोंको हवाई मार्गसे श्रीनगर भेजनेकी मांग की थी; परन्तु गृह मन्त्रालयने इस मांगपर ध्यान नहीं दिया ! समाचारके अनुसार, श्रीनगरमें तैनात ‘सीआरपीएफ’के एक वरिष्ठ अधिकारीने इस सम्बन्धमें मुख्य कार्यालयको लिखा था, जिसके पश्चात ‘सीआरपीएफ’ने यह मांग गृह मन्त्रालयको भेज दी थी ।

विवरणके अनुसार, सीआरपीएफकी ओरसे इससे पूर्व भी सैनिकोंको हवाई मार्गसे लानेकी मांग की गई थी; परन्तु इसे स्वीकार नहीं किया गया । ‘सीआरपीएफ’के एक वरिष्ठ अधिकारीने ‘द क्विंट’के साथ वार्तामें बताया कि ‘बहुतसे सैनिक बर्फबारीके कारण रास्ते बंद होनेके चलते जम्मूमें फंस गए थे । ४ फरवरीको भी सैनिकोंका एक दल निकला था । यद्यपि ‘सीआरपीएफ’ मुख्य कार्यालयको पत्र लिखकर मांग की गई थी कि सैनिकोंको हवाई मार्गसे ले जाया जाए; परन्तु कुछ नहीं हुआ और किसीने हमारी मांगका उत्तरतक देनेका प्रयास नहीं किया !”

विवरणके अनुसार, ८ फरवरीको गुप्तचर विभागने भी ‘सीआरपीएफ’ अधिकारियोंको एक पत्र लिखकर आतंकी आक्रमणके प्रति चेताया था । यद्यपि गुप्तचर विभागने आईडी विस्फोटको लेकर सूचना दी थी और शेष जानकारी नहीं दी थी । ‘सीआरपीएफ’के सेवानिवृत्त वीपीएस पंवारका कहना है कि इसप्रकारके आतंकी आक्रमण सुरक्षा व्यवस्थाकी असफलताको दिखाते हैं और ऐसा लगता है कि वरिष्ठ अधिकारियोंने गुप्तचर विभागकी सूचनापर ध्यान नहीं दिया ! पंवारने कहा कि ‘सीआरपीएफ’को बुलेट प्रूफ वाहन उपलब्ध कराए जाने चाहिए और साथ ही सैनिकोंको हवाई मार्गसे पहुंचानेकी व्यवस्था होनी चाहिए । विशेषतया तब, जब अधिक सैनिक यात्रा कर रहे हो ।

‘सीआरपीएफ’ अधिकारीने बताया कि साधारणतया दलमें ३००-४०० से अधिक सैनिक नहीं होते हैं । एक साथ ७८ वाहनोंका दल एकप्रकारसे आतंकियोंके लिए सरल लक्ष्य था । इतनी अधिक संख्यामें सैनिकोंको स्थानान्तरित करना उचित निर्णय नहीं था ।

 

“इससे स्पष्ट है कि चूक शासनसे हुई है और यह चूक नहीं अपराध है और इतना बडा कि क्षम्य नहीं है और अधिकारियोंकी संवेदनहीनता व अदूरदर्शिताको दिखाता है ! जब स्पष्ट बताया गया था कि आतंकी आक्रमणकी शंका है और एक साथ ३०० से अधिक सैनिक नहीं स्थानान्तरित किए जाते हैं तो क्यों हवाई मार्गसे नहीं भेजा गया ? शासन सैनिकोंके प्रति इतना असंवेदनशील कैसे हो सकता है ? सम्भवतः अब सत्ता नहीं व्यव्स्था परिवर्तनका समय है । जब शासकगणोंके स्वयंके पुत्र सेनामें होंगें तब उन्हें संवेदनाका ज्ञान होगा कि हमारे सैनिक गाजर-मूली नहीं है ! जब किसी नेताका पुत्र सेनामें अपने प्राण खोएगा तो ऐसी संवेदनहीनता समाप्त होगी !  ” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : जनसत्ता



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution