साधना क्यों करें ? (भाग – १)


‘सुखस्य मूल: धर्म:’  अर्थात धर्मपालनसे मनुष्यका जीवन सुखी होता है, धर्म ही अध्यात्म सिखाता है और अध्यात्मशास्त्रके माध्यमसे साधना करना सम्भव होता है । अतः सुखी जीवन व्यतीत करने हेतु साधना करें !

(हमारे श्रीगुरुके अनुसार, ईश्वरप्राप्ति हेतु तन, मन, धनसे किए जानेवाले प्रयत्नको ही साधना कहते हैं |)



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution