बंगालमें हिंसा चरमपर, राज्यमें अनेक स्थानोंपर उपद्रव, भाजपा कार्यकर्ताकी घरसे बुलाकर हत्या !


मई २६, २०१९

लोकसभा चुनावके परिणाम आनेके पश्चात भी पश्चिम बंगालमें राजनीतिक हिंसाका प्रकरण रुकनेका नाम नहीं ले रहा है । राज्यके कई नगरोंमें हिंसक घटनाएं हो रही हैं । इसमें एक भाजपा समर्थककी हत्या कर दी गई, जबकि दशकाधिक लोग चोटिल हो चुके हैं । भाजपाने तृणमूल समर्थकोंपर हिंसाका आरोप लगाते हुए कहा कि वह उत्तर देनेके लिए ‘जैसेको तैसा’वाली नीति अपनाएंगें । उधर, तृणमूलने भाजपापर स्थान-स्थानपर पार्टी कार्यालयोंमें तोडफोड व अधिकार करने और कार्यकर्ताओंपर आक्रमण करनेका आरोप लगाया है ।

नादिया जनपदमें चकदहमें शुक्रवार, २४ मईको रात अज्ञात लोगोंने गोली मारकर संतू घोषकी हत्या कर दी । संतू रातके लगभग नौ बजे घर आया था । उसे कुछ युवक घरसे बुलाकर ले गए और एक मैदानमें ले जाकर गोली मार दी और भाग गए ।

संतूको अपना समर्थक बताते हुए भाजपाने शनिवार, २४ मईको रेलयान रोककर विरोध-प्रदर्शन किया । भाजपाका कहना है कि संतू कुछ दिवस पूर्व ही तृणमूल छोडकर भाजपामें सम्मिलित हुआ था । भाजपा नेताओंने सत्तारूढ तृणमूल कांग्रेसके नेताओंके संकेतपर हत्या करवानेका आरोप लगाया है ।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोषने तृणमूल कार्यकर्ताओंपर हिंसा करनेका आरोप लगाते हुए कहा कि तृणमूलके गुंडे विपक्षके नेताओं और प्रत्याशियोंपर आक्रमण कर रहे हैं । ममता बैनर्जीकी पार्टी पराजय स्वीकार नहीं कर पा रही है । उन्हें परिणामको उचित भावनाके साथ देखना चाहिए । यदि तृणमूल हिंसाको धमकानेके लिए प्रयोग कर रही है और हमारे कार्यकर्ताओंपर आक्रमण जारी रखती है, तो हम भी उसी भाषामें उत्तर देंगें ।

बैरकपुर लोकसभा सीटके अन्तर्गत कांकीनाडा, नैहट्टी और बीजपुरमें अब भी हिंसा जारी है । शुक्रवार रात व शनिवारको कांकीनाडा और बीजपुरमें भाजपा-तृणमूल समर्थकोंमें मारपीट हुई । कई क्षेत्रोंमें दुकानोंमें तोडफोड की गई । वहीं बीजपुरमें तृणमूल कार्यालयपर भाजपाईयोंने अधिकार कर लिया । उसे हरे रंगके स्थानपर भगवा रंगसे रंग दिया गया ।

कूचबिहार लोकसभा सीटपर भाजपाकी बडी विजयके पश्चात हिंसा जारी है । गुरुवार और शुक्रवारको भाजपा-तृणमूल समर्थकोंमें मारपीट हुई । रातमें तृणमूलके एक कार्यालयमें आग लगा दी गई । तृणमूल नेताओंका आरोप है कि सहस्रोंकी संख्यामें आए भाजपा कार्यकर्ताओंने पार्टी कार्यालयमें आग लगाई है ।

मतगणनाके पश्चात पश्चिम मेदिनीपुर जनपदमें भी राजनीतिक अशांति जारी है । शनिवार प्रातःकाल शालबनी १० नंबर अंचल बालीझूरीमें तृणमूल कार्यकर्ताओं व समर्थकोंसे मारपीट और उनके घरोंमें तोडफोड की गई । आरोप है कि तृणमूल समर्थक होनेके कारण ही भाजपाईयोंने आक्रमण किया है ।

“जिसप्रकारकी स्थिति बंगालमें बनी हुई है, ऐसेमें राष्ट्रपति और संसद कोई निर्णय नहीं लेते हैं तो इनका होनेका कोई लाभ नहीं है । बंगालमें त्वरित तृणमूल शासनको निरस्तकर राष्ट्रपति शासनकी आवश्यकता है; अन्यथा कभी भी परिस्थिति हाथसे बाहर हो सकती है और इसका परिणाम और किसीको नहीं वरन बंगाली हिन्दू भाइयोंको ही भोगना पडेगा !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : जागरण



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution