लव जिहाद: तीन बच्चोंके पिता जिहादी इमरानने कबीर शर्मा बनकर हिन्दू युवतीसे विवाह किया, युवती हुई ओझल !!


मई ३१, २०१९

राजस्थानके सीकरमें लव-जिहादका प्रकरण सामने आया है । यहां तीन बच्चोंके पिता इमरानने कबीर शर्मा बनकर युवतीको प्रेम जालमें फंसाया और विवाह कर लिया । उसने अपना फर्जी नाम, जाति और धर्म परिवर्तित करनेके साथ पूरे परिवारका फर्जी कुटुम्ब तैयार किया और युवतीके साथ विवाह रचाया । तीन माहतक किसीको भान नहीं हुआ कि युवक समुदाय विशेषसे है । बादमें युवतीके गुम होनेपर उसके परिजनोंने खोज आरम्भ की तो सत्य जानकर वे अचम्भित हो गए ।

युवतीके पिताने थाने पहुंचकर जब सम्पूर्ण घटना बताई तो पुलिस अधिकारी भी अचम्भित रह गए । पुलिस अधीक्षक डॉक्टर अमन दीप सिंह कपूरने प्रकरण प्रविष्टकर आरोपी युवक व युवतीकी खोजमें विशेष दलको लगाया है; परन्तु अभीतक कुछ भी ज्ञात नहीं हो पाया है ।

युवतीके गुम होनेके पश्चात उसके पिताने कबीरसे सम्पर्क करनेका प्रयास किया, जिसके लिए युवतीके पिताने विवाहके समय भ्रमणभाष यन्त्रमें खींचें गए चित्र परिचितोंको दिखाए । इस मध्य ज्ञात हुआ कि युवकका नाम कबीर शर्मा नहीं, वरन इमरान भाटी है । नगरके वार्ड २८ अंजूमन विद्यालयके पास रहनेवाला इमरान पहले एक मोटर कंपनीमें कार्यरत था । इमरान पहलेसे विवाहित है । उसकी पत्नी और तीन बच्चे घरपर ही रहते हैं ।

लडकीके पिताके अनुसार एकमात्र पुत्र होनेके कारण उन्होंने अत्यधिक दहेज दिया । विवाहमें ११ लाख रुपए, पांच लाखके आभूषण, वस्त्र, डेढ लाख रुपए रिसोर्टका किराया, एक लाख ७० सहस्र रुपए भोजनपर व्यय किया । भुगतान करनेके पश्चात वे वापस सीकर आ गए ।

विवाहसे पूर्व दोनों परिवारोंने जयपुरमें एक सगाईका कार्यक्रम किया था, जिसमें युवक और उसके फर्जी माता-पिता व सम्बन्धी बने लोगोंने स्वयंको ब्राह्मण बताया और अपने-अपने गोत्र भी बताए । लोगोंकी बातसे संतुष्ट युवतीके पिताने दोनोंका विवाह १३ मईको निर्धारित किया । युवकने युवतीके पिताको जयपुर बुलाया और लोहामंडी स्थित मातेश्वरी आश्रय स्थल (रिसोर्ट) आरक्षित करवा लिया और इसके पश्चात निर्धारित तिथिपर युवतीके परिजन विवाह करनेके लिए जयपुर पहुंच गए । विवाहमें आनेवाले सभी लोग ब्राह्मण समाजके बनकर आए थे । सबने तिलक लगा रखे थे ।

विवाहके छह दिवस पश्चात युवतीको इमरानने वापस सीकर भेज दिया । इस मध्य इमरान स्वयं युवतीके घर पहुंचा और पत्नीके पितासे पांच लाख रुपएकी आवश्यकता बताई । इसके पश्चात वह वापस जयपुर जानेकी बात कहकर चला गया । युवकके निरन्तर दबावके चलते पिताने अपने परिचितसे ढाई लाख रुपए उधार लिए । इसके पश्चात युवती १७ मईकी रात घरसे ओझल हो गई । घरमें रखे ढाई लाख रुपए, उसकी मांके लाखोंके आभूषण भी नहीं थे ।

पुलिसके लिए यह प्रकरण गुत्थी बन गया है । प्रकरण संज्ञानमें आनेके तीन दिवस पश्चात भी पुलिस अभीतक कबीर बने इमरान व उसके फर्जी परिवार, सम्बन्धियोंतक नहीं पहुंच पाई है । इसकी कारण है कि आरोपियोंने अत्यधिक चतुराईसे समस्त धोखाधडी की ।

“यदि हिन्दू अपने पुराने संस्कारों और व्यवस्थाओंको नहीं छोडते तो आज कमसे कम सहस्रों हिन्दू युवतियोंका जीवन नष्ट न होता ! लव-जिहादके अनेक प्रकरण हिन्दू युवतियोंके इस भ्रामक प्रेमसे निकले हैं; अतः युवतियो ! धर्मनिष्ठ बनें ।”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : न्यूज १८



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution