हिन्दुत्वनिष्ठ शासन अन्तर्गत गौशालाओंकी स्थिति दयनीय, भूख-प्याससे गाय बेहाल !!


मई ३०, २०१९

उत्तरप्रदेशमें गौशालाओंकी बुरी स्थिति है । गौशालाओंमें अत्यधिक कठिनाइयोंका सामना कर रही गायोंकी भूख-प्याससे बेहाल होकर अस्थियां (हड्डियां) निकल गई है । इस कडकती धूपमें रहनेको विवश इन गायोंको खानेके लिए सूखा भूसा मिलता है । पानी समयसे मिलता भी है या नहीं, ये बताया नहीं जा सकता ।

योगी शासन गौशालाओंको सेवाएं देनेके कई दावे कर रही हैं; परन्तु लखीमपुर खीरीकी तहसील निघासनमें बने गौशालाका चित्र अलग कहानी बता रहा है । यहां बनी गौशालामें ५० गाय ही आ सकती हैं; परन्तु स्थान ४०० को दी गई है, जिस कारण गायोंको रेतीली भूमिपर कडकती धूपमें स्वयंको तपाना पडता है । इस कारण कई गायोंने प्राण त्याग दिए तो वहीं कुछ अपनी दुर्लभ अवस्थामे अपनी दुर्दशाको देख आंसू बहानेको विवश है । इस गौशालामें न तो एक भी वृक्ष लगा है, न ही ऐसी कोई छायाकी व्यवस्था, मात्र छोटेसे टीन सेट हैं ।

भारतीय किसान संघके मण्डल अध्यक्ष अविनाश दीक्षित, जिलाध्यक्ष बद्री प्रसाद मौर्य, मण्डल मन्त्री नन्दकिशोर गुप्ताने छुट्टा पशुसे किसानोंकी फसलकी हानि देखते हुए व गौशालाओंमें उचित चारे और छायाकी व्यवस्था करनेको लेकर मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथको सम्बोधित ज्ञापन एसडीएम निघासनको सौंपा । उन्होंने किसानोंकी फसलोंको नष्ट कर रहे निराश्रित पशुओंका उचित प्रबन्धन किए जानेकी बात कही है । ज्ञापनमें यह भी कहा किया गया कि गायोंके लिए उचित चारेकी व्यवस्थाके साथ छायाकी व्यवस्था की जाए । उन्होंने कहा कि यदि इन मांगोंपर शासनद्वारा शीघ्र विचार नहीं किया गया, तो पूरे किसान संघके पदाधिकारी धूपमें बैठकर आंदोलन करेंगें । वहीं उपजिलाधिकारीने इस प्रकरणको गम्भीरतासे लेते हुए शीघ्र गौशालाओंमें चारेकी व्यवस्था व जलकी व्यवस्था सुचारू रूपसे चालू करानेकी बात कही ।

“हिन्दू बहुल राष्ट्रमें हिन्दुत्वनिष्ठ शासकोंके रहते भी यदि गौमाताकी ऐसी अवस्था है तो यह अवश्य ही चिन्ताजनक है । क्या योगी शासन गौमाताकी स्थिति सुधिरनेके लिए धन नहीं है ? कुम्भके मेलेमें अपार धन व्यय किया गया था और वापस भी बहुतसा धन शासनके पास आया था तो क्या गायके लिए धन नहीं है ? जबतक गायोंकी स्थिति धहीं सुधरेगी तो शासनद्वारा किए अनेक कृत्य निष्फल हो जाते हैं; अतः योगी शासन इसपर त्वरित कोई पग उठाए !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : पत्रिका



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution