ऑस्ट्रियामें इस्लामिक राजनीतिकरणके आक्षेपमें ७ मस्जिदें बन्द और ६० इमाम निकाले जा सकते हैं !


जून ८, २०१८

ऑस्ट्रियाई सरकारने देशकी ७ मस्जिदोंको बन्द करनेका निर्णय किया है । इसके अतिरिक्त लगभग ६० इमामोंको देशसे बाहर निकाला जा सकता है । बताया जा रहा है कि सरकारने इस्लामके राजनीतिकरण और मस्जिदोंकी विदेशी चन्देपर रोक लगानेके लिए ये निर्णय लिए हैं । ऑस्ट्रियाक कोषाध्यक्ष सैबेस्टियन कुर्जने शुक्रवारको इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि शासन, विएनामें स्थित एक कट्टरवादी तुर्की राष्ट्रवादी मस्जिदको बन्द कर रहा है । इसके अतिरिक्त अरब धार्मिक संगठनसे सम्बन्धित ६ और मस्जिदोंको भी बन्द किया जा रहा है ।

कुर्जके अनुसार, शासन ने ये निर्णय धार्मिक प्रकरणके प्राधिकरणकी एक जांचके बाद लिया है । इसी वर्ष अप्रैलमें कुछ चित्र सामने आए थे; इनमें तुर्कीसे सम्बन्धित मस्जिदोंमें बच्चोंको प्रथम विश्व युद्धका एक नाटक प्रदर्शित करते दिखाया गया था, जिसमें लाखों तुर्की नागरिक मारे गए थे । उनकी स्मृति में किए गए नाटकमें कई बच्चोंने मरनेका अभिनय भी किया था । प्रचलित हुए चित्रोंमें बच्चोंको तुर्कीका ध्वज ओढे और उसे सलामी देते दिखाया गया था ।
कुर्जने इस घटनाको इस्लामिक राजनीतिकरण बताते हुए कहा कि कट्टरताका देशमें कोई स्थान नहीं है !

ज्ञात हो कि ऑस्ट्रियामें २०१५ में एक विधान (कानून) पारित किया गया था; जिसके अन्तर्गत कोई भी धार्मिक संगठन विदेशोंसे चन्दा नहीं ले सकता । इसी नियमके सन्दर्भमें विदेशोंसे चन्दा पाने वाली मस्जिदोंको बन्द करने का निर्णय लिया गया है ।

ऑस्ट्रियाके गृह मन्त्री हर्बर्ट किकलने बताया कि ‘तुर्की-इस्लामिक सांस्कृतिक संगठन’के (एटीआईबी) ६० इमामोंके निवासिय आज्ञापत्रकी (होम परमिट) जांच की जा रही है । किकलने कहा कि दो प्रकरणमें आज्ञापत्रको समाप्त किया जा चुका है; जबकि ५ अन्य इमामोंको भी आज्ञापत्र देने से मना कर दिया गया है !

पिछले वर्ष हुए मतदानमें कुर्ज और उनके सहयोगी दलोंने आव्रजन नीतियोंको सख्त बनाने और धार्मिक कट्टरताको समाप्त करनेकी बात कही थी । माना जाता है कि इन वचनोंके कारण ही उनके गठबन्धनको मतदानमें बडी विजय मिली थी ।
विगत दिनोंमें, ऑस्ट्रियाई सरकारने घोषणा की थी कि वो विद्यालयोंमें पढने वाली बच्चियोंके मुख ढकनेपर भी रोक लगाएगा !


स्रोत : दैैनिक भास्कर



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution