विमानमें बिगडा भारतीयका स्वास्थ्य, लाहौरमें विमान उतरनेके पश्चात भी पाकिस्‍तानने चिकित्साको मना किया !


अगस्त १४, २०१८

पाकिस्‍तानने एक बार पुनः मानवताको लज्जित करने वाला कार्य किया है ! उसने अपने यहां एक भारतीय रोगीको चिकित्सा देनेसे स्पष्ट मना कर दिया ! वास्तवमें यहां तुर्की विमानसेवाके एक विमानमें यात्रा कर रहे भारतीय युवकका स्वास्थ्य एकाएक बिगड गया, जिसके चलते विमानको लाहौर विमानतलपर (एयरपोर्टपर) आपातकालीन अवतरण (लैण्डिंग) करनी पडी ।

दैनिक भास्‍‍करमें प्रकाशित समाचारके अनुसार पाकिस्‍तानने वहां उसे चिकित्सा देने और चिकित्सालयमें प्रविष्ट कराने से मना दिया ! लगभग सात घण्टे पश्चात जब विमान दिल्‍ली पहुंचा तो उस युवकको चिकित्सा मिल सकी । सह यात्रीने इसकी परिवाद प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी और विदेश मन्त्रीसे ‘ट्वीट’ करके की है ।

 

तुर्की विमानसेवाके इस विमानमें रूग्ण हुआ विपिन नामका यह युवक गुरुग्रामकी एक बीमा उद्योग इकाईमें कार्यरत है । वह उसमें विक्रय-प्रबन्धक (सेल्‍स मैनेजर) है । उनकी उद्योग इकाईने अपने ७०-८० कर्मचारियोंको तीन दिनके पर्यटनपर तुर्की भेजा था । इसी में विपिन और उनके साथी पंकज मेहता भी गए थे ।


पंकजने प्रकरणकी जानकारी देते हुए बताया कि उनके दलके सभी लोग १२ अगस्‍तको रातमें ०८:३० बजे इस्‍ताम्बुलसे दिल्‍लीके लिए तुर्की विमान सेवाके विमानसे रवाना हुए थे । यात्राके मध्य विपिनने रात १० बजे मद्यपान किया था । इसके पश्चात देर रात एक बजे उसने वमन (उल्टी) करनेकी बात कही और अचेत होकर गिर पडा !

इस मध्य कर्मीदलके सदस्योंसे सहायता मांगी । उस समय विमानमें उपस्थित एक भारतीय चिकित्सकने उसकी सहायता की और उसे सम्भाला । यद्यपि चालकने तत्‍परता दिखाते हुए विमानको देर रात ०१:३० बजे लाहौर विमानतलपर उतारा । विमानकी इस आपातकालकीन अवतरणके पश्चात पाकिस्‍तानी चिकित्सक तुरन्त वहां पहुंच गए । विपिनकी स्थितिको गम्भीर देखते हुए चिकित्सकोंने उसे चिकित्सालयमें प्रविष्ट करानेका परामर्श दिया ।


ऐसेमें चालकने पाकिस्‍तानके सम्बन्धित अधिकारियोंसे बातचीत की; लेकिन उसे बात करनेके पश्चात भी चिकित्सकोंने विपिनकी गम्भीर स्थितिपर ध्‍यान नहीं दिया और उसे चिकित्सालयमें प्रविष्ट करनेसे मना कर दिया । इसमें लगभग तीन घण्टे व्यर्थ हो गए ।

इस घटना के बाद चालकको घोषणा करनी पडी कि भारतसे खराब रिश्‍तोंके कारण पाकिस्‍तान शासन और इमीग्रेशन विभागने रोगीको चिकित्सा देनेसे मना कर दिया । इसके पश्चात प्रातः लगभग ०४:३० बजे चालकने दिल्‍लीके लिए उडान भरनेका निर्णय लिया । ०८:३० बजे वह विमानको लेकर दिल्‍ली पहुंचा, जिसके पश्चात उसे वेदान्ता चिकित्सालयमें प्रविष्ट कराया गया । वहां उसका स्वास्थय स्थिर बना हुआ है ।

स्रोत : जी न्यूज



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution