बेटीका ‘खतना’ करनेपर ब्रिटेनमें मांको ११ वर्षका कारावास !!


मार्च १०, २०१९


ब्रिटेनमें प्रथम बार किसी व्यक्तिको खतना करनेके लिए कारावासका दण्ड सुनाया गया है । ब्रिटेनके एक न्यायालयने महिलाको ३ वर्षकी बच्चीका ‘खतना’ करनेके लिए ११ वर्ष कारावासका दण्ड दिया है । न्यायालयने इसे अप्राकृतिक क्रूरताकी श्रेणीमें रखते हुए कहा कि घरमें बच्चीके साथ यह क्रूरता हुई, जहां उसे स्वयंको सबसे सुरक्षित अनुभव करना चाहिए था ।


न्यायाधीश फिलिपा व्हिपलने दण्डकी घोषणा करते हुए कहा, “यह समूचि सूचिसे स्पष्ट होना चाहिए कि एफजीएम (महिलाओंका खतना) भी बच्चोंके साथ यौन शोषणका ही एक रूप है ।” युगांडा मूलकी महिलाको दण्ड देते हुए न्यायालयने कहा, “यह एक अत्यधिक क्रूर प्रथा है ।”

ब्रिटेनमें ३० वर्षसे अधिक समयसे इस क्रूर प्रथाको बंद किया जा चुका है । इसके पश्चात महिलाको इस प्रकरणमें सजा सुनाई गई है । न्यायाधीशने महिलाके अपराधको गम्भीर और क्रूरकी श्रेणीमें मानते हुए कठोर दण्ड देनेका निर्णय किया । न्यायालयने घरमें हुए खतनाको भी गंभीर प्रकरण बताया ।


न्यायालयने निर्णयमें कहा, “ इस अभियोगमें एक मांके रूपमें एक संरक्षकके रूपमें दोषी महिलाने बच्चीका विश्वास तोडा है !”

 

“न्यायाधीश जिन भावनाओंका वर्णन कर रहे हैं, वह साधारण मानवोंके लिए हो सकती है; परन्तु धर्मान्धोंके लिए नहीं; क्योंकि उन्होंने बुद्धि, विवेक व भावनाएं सदाके लिए ‘शरियत’के नीचे दबा दी है ! जहां एक ओर विश्व विज्ञानकी नूतन ऊंचाइयोंको छू रहा है, वहीं धर्मान्ध अभी भी निराधार व विज्ञानहीनके पीछे पडे हैं ! एक छोटे बालकके अंगोच्छेदनको किसी भी प्रकारसे उचित नहीं बताया जा सकता है ! धर्मनिरपेक्षवादी कृपया इसकी तुलना कर्णोच्छेदनसे कर मूढताका परिचय न दें । इस्लामकी यह कुप्रथा जब अब सभी देश समझने लगे हैं तो अब यह प्रथा भारतमें भी पूर्णतया बन्द होनी चाहिए !” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : नभाटा



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution