चूककी तो ५ वर्ष भुगतोगे, बंगालके मौलवियोंने जारी किया मुस्लिमोंके नाम संदेश !


अप्रैल २२, २०१९


पश्चिम बंगालमें प्रमुख मौलवियोंने अपने समुदायको सावधानीपूर्वक वोट देनेका परामर्श देते हुए एक संदेश जारी किया है । उसके अनुसार, मुस्लिमोंके वोट न विभाजित हो; इसलिए मौलवियोंने यह संदेश मुस्लिम समुदायको जारी किया है ।

मौलवियोंकी इस अपीलमें न तो यह स्पष्ट किया गया कि किस उम्मीदवारको वोट देना चाहिए और न ही किसी राजनीतिक पार्टीके विरुद्घ चेतावनी ही दी गई; परन्तु मुस्लिम मतदाताओंसे सावधानीपूर्वक मतदान करनेके आग्रहसे यह स्पष्ट है कि यदि अनुचित मतदान किया तो चूक सुधारनेके लिए अगले पांच वर्षोंतक प्रतीक्षा करनी होगी ।

मुस्लिम मतदाताओंके नाम जारी किए इस संदेशपर ‘ऑल इंडिया मिल्ली काउंसिल’के अध्यक्ष कारी फजलुर रहमान, जो कोलकाताके रेड रोडपर ईदकी नमाजका नेतृत्व करते हैं, काउंसिलके उपाध्यक्ष कारी मोहम्मद शफीक और प्रतिष्ठित नखोदा मस्जिदके इमामने हस्ताक्षर किए हैं ।

कासमीने कहा, “यह हमारा कर्तव्य है कि हम अपने धर्म और राष्ट्र दोनोंकी सेवा करें; इसलिए धार्मिक ज्ञानके अतिरिक्त, हमें सही उम्मीदवार और एक पार्टीका चयन करनेके लिए राजनीतिक परिपक्वताकी भी आवश्यकता है, जो इस देशके प्रत्येक नागरिककी प्रगति और सुरक्षाके लिए काम करेगी ।”

मौलवियोंका यह संदेश अधिक ध्यान देने योग्य है; क्योंकि बंगालमें मुस्लिम मतदाताओंकी संख्या एक तिहाईसे थोडी अल्प है और यदि इस समुदायके वोट किसी एक उम्मीदवार या पार्टीके पक्षमें वोट पड जाएं तो इसका प्रभाव वृहद स्तरपर पडेगा ।

 

“बांग्लादेशसे आए मुसलमानोंको बंगालमें बसाकर उन्हें वहांका नागरिक बनाया गया है और ऐसा करनेवाला दल टीएमसीके अतिरिक्त मौलवीकी श्रद्धा और किस दलके प्रति होगी ? मौलवी मुसलमानोंको परामर्श दे रहे हैं; क्योंकि वे जानते हैं कि ३३% संख्यामें कुछ भी इधर-उधर न हो, ताकि उन्हें संरक्षण देनेवालेका शासन चलता रहे, वहीं एक ओर हिन्दू हैं, जो आधे सेक्यूलर हैं, कुछ वोट नहीं देते हैं, जो शेष रह गए, वे कुछ कर नहीं पाते हैं । इसी वृत्तिके कारण ही तो बंगालमें इस्लाम इतना फैल पाया !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : ऑप इण्डिया



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution