मस्‍ज‍िद नहीं तोड पाया चीन, मुसलमानोंके विरोधके आगे झुका शासन !


अगस्त १०, २०१८

चीन आधिकारिक रूपसे एक नास्तिक देश है । समय-समयपर शासनद्वारा कई धार्मिक कर्मकाण्डोंपर प्रतिबन्ध लगाए जाते रहे हैं । कई समाचार विवरणके अनुसार चीनका शासन अब अपने देशमें इस्लामको जडसे नष्ट करनेके लिए कार्य कर रहा है । यद्यपि अपने एक प्रयासमें चीनको विफलता हाथ लगी है ।

चीनका प्रशासन निंक्‍स‍िआ प्रान्तके विझाऊकी बडी मस्‍जिदको (ग्रैण्ड मस्‍ज‍िद) ढहानेका प्रयास कर रहा है । यह मस्‍ज‍िद ‘एचयूआई’ मुसलमानोंकी है । ‘एचयूआई’ समुदाय ‘ईगर’ समुदायके पश्चात चीनमें सबसे अधिक जनसंख्या वाला समुदाय है । शुक्रवारको उसने मस्‍ज‍िद ढहानेकी सूचना भी जारी की थी ! यह अधिसूचना चीनी मुसलमानोंके मध्य सामाजिक प्रसखर माध्यमोंपर काफी फैल गई, जिसके पश्चात सैंकडोंकी संख्‍यामें एचयूआई समुदायके मुस्‍ल‍िम मस्‍जिदमें एकत्र हो गए और विरोध प्रदर्शन करने लगे ।
‘राइटर्स’के समाचारके अनुसार चीनका संविधान वैसे तो किसी भी धर्मका पालन करनेकी स्वतन्त्रता देता है; लेकिन हिंसा और कट्टरता बढनेकी आशंकाको देखते हुए मुस्‍ल‍िम क्षेत्रोंमें काफी प्रतिबन्ध लगाए गए हैं ।
ऐसे में चीनके प्रशासनके अनुसार विझाऊकी बडी मस्‍जिदके निर्माणके लिए आवश्यक आज्ञापत्र (परमिट) नहीं लिए गए थे । इस कारण ३ अगस्‍तकी अधिसूचनामें इसे गिरानेका आदेश दिया गया था ।

शासनने आदेशमें यह भी कहा था कि मस्‍ज‍िदोंकी मीनारको बौद्ध प्रार्थना स्‍थल ‘पगोडा’ जैसे आकारमें बदला जाए ! आपको बता दें कि चीनमें अधिकतर धार्मिक स्‍थल ‘पगोडा’ जैसे हैं, यद्यपि मुस्‍ल‍िम लोगोंने इसका विरोध किया । लोगोंद्वारा विरोध प्रदर्शन करनेके पश्चात अधिकारीने लोगोंको आश्‍वासन दिया कि मस्‍ज‍िदको हाथ नहीं लगाया जाएगा, जब तक इसका आकार बदल कर पुनः  बनानेकी योजना पारित पास नहीं हो जाती ।

इस मस्‍ज‍िदका निर्माण वुझाऊमें ६०० वर्ष पुराने चीनके आकारमें बने मस्‍ज‍िदके बदलेमें किया गया था, जिसे चीनकी सांस्‍कृतिक लडाईके मध्य काफी हानि पहुंची थी । लोग यह भी प्रश्न कर रहे हैं कि यदि प्रशासनको मस्‍ज‍िदसे परेशानी थी तो इसे बनने में २ वर्ष लगे, तब क्‍यों नहीं आपत्‍त‍ि जताई गई ?


आपको बता दें कि चीन शासन अपने ‘Sinicise religion’ (धर्मोंकी अप्र‍िय रीतियोंकी काट छांट करना) कार्य कर रहा है । २०१५ के पश्चात शी जिनपिंग शासन सभी धर्मोंको चीनी संस्‍कृतिके समकक्ष लानेका प्रयास कर रहा है ।


आपको बता दें कि कुछ दिवस पूर्व पहले चीनमें अब मुस्लिम बच्चोंको धर्म और इस्लामिक शिक्षासे दूर रहनेका आदेश दिया गया था । शिंजियांग प्रान्तके पश्चात पश्चिमी चीनके ‘लिटिल मक्का’में (गांसू प्रान्त) नास्तिक सत्ताधारी ‘कम्युनिस्ट दल’ मुस्लिम बच्चोंको धर्म और इस्लामिक शिक्षासे दूर रखना चाहती है ।

विवरण अनुसार चीनकी कुल जनसंख्या १ अरब ३८ कोटि है, जिसमें से मुस्लिम केवल २ कोटि १० लाख है । आपको बता दें कि सत्तारूढ दल सीसीपी आधिकारिक रूपसे नास्तिक है । यह राजनीतिक दल अपने लोगोंको धार्मिक मान्यताएं रखनेसे प्रतिबन्धित करती है । धार्मिक संगठन या संस्थासे जुडा पाए जानेपर उन्हें दलसे बाहर तक किया जा सकता है !
शासनका मानना है कि धार्मिक आस्थासे वामपन्थकी विचारधारा दुर्बल होती है । दलके सदस्योंको मार्क्सवादी नास्तिक बननेको कहा जाता है । चीनके पहले कम्युनिस्ट नेता माओत्से तुंगने ही धर्मको नष्ट करनेका प्रयास किया था ।

स्रोत : आजतक



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution