‘अधिक हंसो मत, एक दिन रोओगे’, अब्दुल हमीद नामक जिहादीकी इस टिप्पणीके कारण श्री लंकाकी मस्जिदोंपर आक्रमण, निषेधाज्ञा लगाई !!


मई १३, २०१९



श्री लंकामें स्थिति अभी भी तनावपूर्ण बनी हुई है । स्थानीय लोग और मुसलमानोंके मध्य यह स्थिति एक फेसबुक लेखको लेकर हुई और देखते ही देखते निषेधाज्ञा (कर्फ्यू) लगानेकी स्थिति आ गई ! यह घटना चिलॉव नामके नगरमें हुई है । स्थानीय पुलिसने प्रकरणकी गम्भीरताको देखते हुए सोमवार, १३ मईको प्रातःकाल ६ बजे निषेधाज्ञा (कर्फ्यू) लगा दी है ।

‘रॉयटर्स’के अनुसार, फेसबुकपर एक लेखको लेकर यह प्रकरण इतना बढ गया कि चिलॉव स्थित तीन मस्जिदों और मुसलमानोंकी कुछ दुकानोंपर स्थानीय ईसाई समुदायके लोगोंने पथराव किया ।

‘फेसबुक’पर किसी उपभोक्ताने सिंहलीजमें लिखा, “हमें रुलाना इतना सरल नहीं ।” इसके साथ ही उसने मुसलमानोंके लिए एक स्थानीय अपशब्दका भी प्रयोग किया । इसी लेखपर अब्दुल हमीद मोहम्मद हसमारने अंग्रेजीमें उत्तर दिया, “Dont laugh more 1 day u will cry” अर्थात अधिक हंसो मत, एक दिन तुम रोओगे ।

“श्रीलंका शासनने आतंकियोंको तो देशसे बाहर कर दिया; परन्तु सम्भवतः उस आतंकी सोचको बाहर नहीं कर पाए हैं, जो अन्योंको रोनेको कहती हैं ! सभी तथाकथित धर्मनिरपेक्ष राष्ट्रोंमें इस्लामके प्रवेशके साथ ही यह महामारी प्रवेश कर जाती है । जब ऐसे प्रकरण देखनेको मिलते हैं तो चीनका स्मरण होता है, जिसने उइगर मुसलमानोंको नियन्त्रणमें रखा हुआ है । इससे ज्ञात है कि जिस समूहका या पन्थका उद्देश्य जिहाद हो, उसे नियन्त्रणमें रखना ही अतिआवश्यक है; अन्यथा श्रीलंकाकी स्थिति सबके समक्ष ही है ।”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : ऑप इण्डिया



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution