परमाणु हथियारों के मामले में 5वां सबसे बड़ा देश बन सकता है पाकिस्तान: रिपोर्ट


सितम्बर ६, २०१८

विभिन्न देशोंके पास परमाणु शस्त्रोंका गणित रखने वाले एक समूहके अनुसार पाकिस्तान वर्ष २०२५ तक परमाणु शस्त्र रखनेके प्रकरणमें ५वां सबसे बडा देश बन सकता है । वर्तमानमें उसके पास १४० से १५० परमाणु शस्त्र हैं । समूहके अनुसार यदि ऐसा ही चलता रहा तो २०२५ तक उसके पास परमाणु शस्त्रोंकी संख्या २२० से २५० हो जाएगी !

अमेरिकी रक्षा गुप्तचर विभागने १९९९ में आंकलन किया था कि पाकिस्तानके पास २०२० तक ६० से 80८० परमाणु शस्त्र होंगे; लेकिन वर्तमानमें उसके पास १४० से १५० परमाणु शस्त्र हैं, जो कि विभागके १९९९ के आंकलन से बहुत अधिक है ।

हेंस एम क्रिस्टनसेन, रोबर्ट एस नोरिस और जुलिया डायमण्डने ‘पाकिस्तान न्यूक्लियर फोर्सेज २०१८’ विवरणमें कहा, “यदि ऐसा ही चलता रहा तो पाकिस्तानके पास २०२५ तक २२० से २५० परमाणु शस्त्र हो जाएंगे । यदि ऐसा होता है तो पाकिस्तान परमाणु शस्त्रके प्रकरणमें विश्वका पांचवा सबसे बडा परमाणु शस्त्र वाला देश बन जाएगा !” विवरणके मुख्य लेखक क्रिस्टनसेन वाशिंगटन डीसीमें फेडरेशन ऑफ अमेरिकन साइंटिस्ट्सके (एफएएस) साथ परमाणु सूचना परियोजनाके निदेशक हैं । पाकिस्तानमें कई डिलिवरी सिस्टमके विकसित होने, चार प्लूटोनियम प्रोडक्शन रिएक्टर और यूरेनियम एनरिचमेंट सुविधाके विस्तारको देखते हुए
कहा जा सकता है कि अगले दस वर्षोंमें शस्त्रोंका भण्डारण बढेगा । विवरणमें कहा गया है, ‘पाकिस्तानी सेनाके मार्चों और पाकिस्तानी वायु सेनाके बेसके कमर्शियल सेटेलाइट चित्रोंके विश्लेषण से मोबाइल लॉन्चर व भूमिगत सुविधाओं सम्बन्धी गतिविधियोंका पता चलता है, जो कि परमाणु शस्त्रोंसे सम्बन्धित हो सकती हैं ।’

विवरणके लेखकके अनुसार पाकिस्तानके शस्त्रोंमें विस्तार मुख्य रूप से दो बातोंपर निर्भर करता है- एक यह कि वह परमाणु ले जानेमें सक्षम कितनी मिसाइल तैनात करना चाहता है, और दूसरा कि पडोसी देश भारत अपने परमाणु शस्त्रोंके भण्डारमें कितनी वृद्धि करता है ।

स्रोत : लाइव हिन्दुस्तान



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution