१० सप्ताहमें रिक्त हो जाएगा पाकिस्तानका कोष !


पाकिस्तानी मुद्रा अंतरराष्ट्रीय स्तरपर अपना मूल्य निरन्तर खो रही है। एक अमरीकी डॉलरकी तुलनामें पाकिस्तानी रुपएका मूल्य १२० रुपए तक चला गया । इसके साथ ही पाकिस्तान विदेशी मुद्रा भंडारमें निरन्तर हो रही कमी से भी जूझ रहा है ।
पाकिस्तानके पास अब १०.३ अरब डॉलरका ही विदेशी मुद्रा भंडार है, जो पिछले वर्ष मईमें १६.४ अरब डॉलर था । पाकिस्तानके प्रमुख समाचार पत्र डॉनका कहना है कि पाकिस्तान इस संकटसे जूझनेके लिए एक बार फिर चीनकी शरण में जा रहा है और एक से दो अरब डॉलरका ऋण ले सकता है !

पाकिस्तानमें जुलाई महीनेमें चुनाव होने वाले हैं और चुनावके बाद पाकिस्तान आईएमएफकी शरणमें भी जा सकता है । इससे पूर्व पाकिस्तान २०१३ में आईएमएफकी शरणमें गया था ।

फाइनैंशल टाइम्सका कहना है कि पाकिस्तानके पास जितनी विदेशी मुद्रा है वो १० सप्ताहके आयातके ही बराबर है ! फाइनैंशल टाइम्सके विवरणके अनुसार विदेशोंमें नौकरी कर रहे पाकिस्तानी देशमें जो पैसे भेजते थे उसमें गिरावट आई है ।

विश्व बैंकने अक्तूबर महीनेमें पाकिस्तानको चेताया था कि उसे ऋण भुगतान और करेंट अकाउंटकी हानिसे निपटनेके लिए इस वर्ष १७ अरब डॉलरकी आवश्यकता होगी !

पाकिस्तानका तर्क था कि विदेशोंमें रह रहे सम्पन्न पाकिस्तानियोंको अगर अच्छे लाभका लालच दिया जाए तो वो अपने देशकी सहायता कर सकते हैं ।

अमेरिकाकी सत्ता डोनल्ड ट्रंपके हाथोंमें आनेके बाद पाकिस्तानको मिलने वाली आर्थिक सहायतामें अमेरीकाने कटौती की है । अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियोने कहा है कि पाकिस्तानके साथ अमेरीकाके रिश्ते पूरी तरहसे बिगड चूके हैं ।
उन्होंने कहा कि अगले वर्षतक पाकिस्तानको मिलने वाली आर्थिक सहायतामें और कटौती होगी ।
पाकिस्तान और अमेरिकाके बिगडे हुए सम्बन्धोंके कारण चीनका महत्व बढ गया है अर्थात पाकिस्तानकी निर्भरता चीनपर निरन्तर बढ रही है ।
आईएमएफके अनुसार पाकिस्तानपर ऋणका भार बढता जा रहा है । २००९ से २०१८ के मध्य पाकिस्तानपर विदेशी ऋण ५० प्रतिशत बढा है । २०१३ में पाकिस्तानको आईएमएफने ६.७ अरब डॉलरका ऋण दिया था ।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution