मसूदपर प्रतिबन्धके लिए अमेरिका आया सामने, चीनपर किया कटाक्ष !


मार्च २८, २०१९


पुलवामा आक्रमणका दोषी और पाकिस्‍तान समर्थित आतंकी संगठन ‘जैश-ए-मोहम्‍मद’के मुखियख मसूद अजहरपर प्रतिबंध लगानेको लेकर अब अमेरिका सीधा आ गया है । २७ मार्च २०१९ को संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषदमें मसूद अजहरको प्रतिबन्ध करनेका प्रस्‍ताव अमेरिकाद्वारा दिया गया । प्रमुख बात यह भी कि अमेरिकाके इस प्रस्‍तावका फ्रांस और ब्रिटेनने समर्थन भी कर दिया है ।

अमेरिकाने यह प्रस्‍ताव ‘संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद’के १५ सदस्‍यीय परिषदको दिया है । इसमें कहा गया है कि मसूद अजहरपर प्रतिबन्ध शीघ्रातिशीघ्र लगाया जाना चाहिए । आतंकी मसूदपर प्रस्तावमें यह भी स्पष्ट किया गया है कि उसकी संपत्तियां अधिकृत करनेके साथ-साथ उसकी विदेश यात्राओंपर प्रतिबन्ध लगाया जाए ।

भारतके लिए यह एक बडी कूटनीतिक विजय मानी जा रही है । यद्यपि अभीतक यह स्पष्ट नहीं है कि इस प्रस्‍तावपर मतदान कब होगा । चीनद्वारा इस प्रस्तावके विरुद्घ पुनः वीटो लगानेकी आशंकाको देखते हुए अमेरिकाने उसे भी कडे शब्दोंमें चेतावनी दी है । कूटनीतिक चाल चलते हुए अमेरिकाके विदेश मन्त्री माइक पॉम्पियोने चीनकी आन्तरिक नीतियों और हिंसक इस्लामिक आतंकी समूहोंपर दोहरे मापदण्डका आरोप लगाया ।

माइक पॉम्पियोने कहा कि चीन अपने यहां लाखों मुसलमानोंको प्रताडित करता है; परन्तु वीटोका आश्रय लेकर हिंसक इस्लामिक आतंकी समूहोंको संयुक्त राष्ट्र प्रतिबन्धसे बचाता है ।

 

“चीनकी दोहरी नीति अब विश्वके समक्ष उजागर हो चुकी है । एक ओर चीन आतंकियोंको लेकर चिन्ता प्रकट कर रहा है तो दूसरी ओर आतंकियोंका समर्थन !! सभी राष्ट्र भी अब चीनके विरूद्ध खडे हो एवं आतंकियों व आतंक समर्थक देशोंका मुखर होकर विरोध करें !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : ऑप इण्डिया



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution