श्रीगुरु उवाच


आजके राजनेताओंके कारण हिन्दू राष्ट्रकी स्थापना अपरिहार्य है !

राष्ट्र एवं धर्म नष्ट होनेकी स्थिति है, तब भी राजनेता, लोकप्रतिनिधि तथा राज्यकर्ता, पर्यटन, पब (आधुनिक मद्यशाला एवं नृत्यशाला) बिकिनी इत्यादी विषयोंपर वार्तालाप तथा विवाद करते हैं । मृतवत् जनता केवल सुनती है । इसमें परिवर्तन लाकर देशका पूर्ववत् वैभव प्राप्त करने हेतु हिन्दू राष्ट्रकी स्थापना अपरिहार्य है ।   -परात्पर गुरु डॉ . जयंत आठवले (२४.८.२०१४)



Comments are closed.

सम्बन्धित लेख


© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution