आयुर्वेद

घरका वैद्य – जल तत्त्वद्वारा प्राकृतिक चिकित्सा (भाग-२)


जल तत्त्वकी उत्पत्ति : ‘जल’की उत्पत्ति कैसे हुई ?, इस प्रश्नके उत्तरके लिए हमें ‘पुराणों’का आधार लेना होगा । पुराणोंका इसलिए; क्योंकि ‘पुराण’ ही वे ग्रन्थ हैं, जिनमें जगतके सृष्टि-विषयक प्रश्नपर विशद रूपसे विचार किया गया है । प्रायः सभी पुराण इस मतपर …….

आगे पढें

घरका वैद्य – जल तत्त्वद्वारा प्राकृतिक चिकित्सा (भाग-१)


पंचतत्त्वको ब्रह्माण्डमें व्याप्त स्थूल एवं सूक्ष्म वस्तुओंका प्रत्यक्ष अथवा परोक्ष कारण और परिणति माना गया है । सांख्यशास्त्रमें, प्रकृति इन्ही पंचभूतोंसे बनी है, ऐसा माना गया है । ब्रह्माण्डमें प्रकृतिसे उत्पन्न सभी वस्तुओंमें पंचतत्त्वकी भिन्न मात्रा उपस्थित ……

आगे पढें

घरका वैद्य – लौंग (भाग-५)


★ भूख न लगना : आधा ग्राम लौंगका चूर्ण १ ग्राम मधुके (शहद) साथ प्रतिदिन सुबह चाटना चाहिए । कुछ ही दिनोंमें भूख लगने लगती है ।
★ गर्भवती स्त्रीको वमन : गर्भवती स्त्रियोंको वमन आनेपर १ ग्राम लौंगका चूर्ण अनारके रसके साथ देना चाहिए ……

आगे पढें

घरका वैद्य – लौंग (भाग – ४)


अम्लपित्तसे पाचनशक्ति बिगड जाती है । अम्लपित्तके रोगीको चाय कॉफीसे हानि होती है । इस अवस्थामें भोजनके बाद १ – १ लौंग सुबह – संध्यामें सेवन करनेसे अम्लपित्तके सभी रोगोंमें लाभ होता है और अम्लपित्त ठीक हो जाता है अथवा १५ ग्राम हरे आंवलोंका रस ५ पिसी हुई लौंग, १ चम्मच शहद और १ चम्मच …..

आगे पढें

घरका वैद्य – लौंग (भाग-३)


५. आंखपर दानेका निकलना : आंखोंमें दाने निकल जानेपर लौंगको घिसकर लगानेसे वह बैठ जाता है ।
६. दन्त रोग : दन्तमें कीडे लगनेपर लौंगको दन्तके खोखले स्थानमें रखनेसे या लौंगका तेल लगानेसे लाभ मिलता है । लौंगको अग्निपर भूनकर दन्तके गड्ढेमें ……

आगे पढें

घरका वैद्य – लौंग (भाग-२)


लौंगका काढा पीनेसे शीतप्रकोप ठीक हो जाता है । १००  मिलीलीटर जलमें ३ लौंग डालकर उबाल लें । उबलनेपर जब पानी आधा शेष रह जाए तो इसके अन्दर थोडासा लवण (नमक) मिलाकर पीनेसे शीतप्रकोप दूर हो जाता है । २ बूंद लौंगके तेलको लेकर २५-३० ग्राम शक्करमें मिलाकर सेवन करनेसे ‘जुकाम’ समाप्त हो ……

आगे पढें

घरका वैद्य – लौंग (भाग-१)


लवंग या लौंग एक सुगन्धित मसाला है । लौंगका अधिक मात्रामें उत्पादन जंजीबार और मलाक्का द्वीपमें होता है । लौंगके वृक्ष  बहुत बडे होते हैं । इसके वृक्षको लगानेके आठ या नौ वर्षके पश्चात ही फल आते  हैं । इसका रंग गाढा धूसर (भूरा) होता है, जिसे भोजनमें स्वादके लिए डाला जाता है …..

आगे पढें

घरका वैद्य – पारिजात (भाग-३)


जीर्ण ज्वरमें लाभप्रद : इसके ७-८ कोमल पत्तोंके रसमें ५-१० मि.ली. अदरकका रस व मधु (शहद) मिलाकर प्रातःकाल और सन्ध्यामें लेनेसे जीर्ण ज्वरमें लाभ होता है ।
ज्वर उतारनेमें : हरसिंगारके (पारिजातके) वृक्षके पत्तेका क्वाथ (काढा) बना लें ……

आगे पढें

घरका वैद्य – पारिजात (भाग-२)


रासायनिक तत्त्व : इसके पुष्पोंमें सुन्धित तेल होता है । रंगीन पुष्प नलिकामें ‘निक्टैन्थीन’ नामक रंग द्रव्य ‘ग्लूकोसाइड’के रूपमें ०.१% होता है, जो केसरमें स्थित ‘ए-क्रोसेटिन’ के सदृश होता है । बीज मज्जासे १२-१६% पीले भूरे रंगका स्थिर तेल निकलता है । पत्तोंमें ‘टैनिक अम्ल’, ‘मेथिलसेलिसिलेट’, ‘ग्लाइकोसाइड’ (१%) …..

आगे पढें

घरका वैद्य – पारिजात पुष्प (भाग-१)


हिन्दू धर्म ग्रन्थोंमें देव वृक्षकी संज्ञासे शोभित दुलर्भ प्रजातिका ‘पारिजात’ वास्तवमें औषधीय गुणोंका भण्डार है । आयुर्वेदमें इस वृक्षके तनेसे लेकर शिखामें जटिल और असाध्य रोगोंके निदानका वर्णन किया गया है । अपनी सुन्दरता और विशेष गुणोंके कारण यह वृक्ष वर्षोंसे …..

आगे पढें

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution