आयुर्वेद

अन्न भण्डारणको सुरक्षित कैसे रखें ? (भाग-३)


दीर्घकालतक चावलका भण्डारण करनेकी कुछ पद्धतियां (भाग-इ) जिस आपातकालकी बात द्रष्टा सन्त कर रहे थे वह आ चुका है और यह अभी दिसम्बर २०२४ तक चलेगा । कभी महामारी, कभी प्राकृतिक आपदाएं, कभी गृहयुद्ध तो कभी विश्व युद्धके कारण आपात स्थिति निर्मित होगी । ऐसी स्थितिमें हमें इस कालमें कुछ पूर्वसिद्धताके करके रखनी होगी और […]

आगे पढें

अन्न भण्डारणको सुरक्षित कैसे रखें ? (भाग-२)


दीर्घकालतक चावलका भण्डारण करनेकी कुछ पद्धतियां (भाग-आ) जिस आपातकालकी बात द्रष्टा सन्त कर रहे थे वह आ चुका है और यह अभी दिसम्बर २०२४ तक चलेगा । कभी महामारी, कभी प्राकृतिक आपदाएं तो कभी विश्व युद्धके कारण आपात स्थिति निर्मित होगी । ऐसी स्थितिमें हमें इस कालमें कुछ पूर्वसिद्धताके करके रखना होगी और इसमें सबसे […]

आगे पढें

अन्न भण्डारणको सुरक्षित कैसे रखें ? ( भाग-१)


दीर्घकालतक चावलका भण्डारण करनेकी कुछ पद्धतियां (भाग-अ) जिस आपातकालकी बात द्रष्टा सन्त कर रहे थे वह आ चुका है और यह अभी दिसम्बर २०२४ तक चलेगा । ऐसी स्थितिमें हमें इस कालमें कुछ पूर्वसिद्धताके करके रखना होगी और इसमें सबसे महत्त्वपूर्ण है, अन्नका भण्डारण । आज हम चावलका भण्डारण कैसे कर सकते हैं ? इसकी […]

आगे पढें

घरका वैद्य – मक्का (भाग-१६)


मक्का या भुट्टाका चयन और लम्बे समयतक सुरक्षित रखनेकी प्रणालीमें, इन्हें क्रय करते समय ध्यान रखना होगा कि यह ‘ताजे’ हों और इनपर किसी प्रकारका दाग या धब्बा न दिखे । कक्षके सामान्य तापमानपर स्वच्छ मक्काको तीन दिनतक रखकर प्रयोग किया जा सकता है । यदि इन्हें तीन दिनमें नहीं खानेवाले हैं, तो इन्हें ‘प्लास्टिक’से […]

आगे पढें

घरका वैद्य – मक्का (भाग-१५)


* ‘अल्जाइमर’में सहायता : मक्का या भुट्टा ‘अल्जाइमर’में (भूलनेके रोगमें) भी अत्यधिक सहायक होता है । कारण है इसमें पाया जानेवाला ‘विटामिन-ई’, जो एक शक्तिशाली ‘एंटीऑक्सीडेंट’ भी है । ‘इंटरनेशनल जर्नल ऑफ मोलिकुलर साइंसेज’के एक शोधमें इस बातको माना गया है । साथ ही यह भी बताया गया है कि ‘अल्जाइमर’के रोगमें ‘विटामिन-ई’ महत्त्वपूर्ण भूमिका […]

आगे पढें

घरका वैद्य – मक्का (भाग-१४)


* हृदयके स्वास्थ्यके लिए उपयोगी : भुने हुए मक्काके दानोंसे (पॉपकॉर्नसे) सम्बन्धित एक शोधमें माना गया है कि इसमें उपस्थित ‘फिनोलिक’ यौगिक ‘एंटीऑक्सीडेंट’ गुणसे समृद्ध होते हैं । इस गुणके कारण मक्का हृदय रोग और उच्च रक्तचापमें लाभ पहुंचानेका कार्य कर सकती है । शोधमें यह भी विवरण मिलता है कि इस कार्यमें मक्कामें ‘फेरुलिक […]

आगे पढें

घरका वैद्य – मक्का (भाग – १३)


* भार नियन्त्रणमें सहायक : बढे हुए भारसे दुःखी लोगोंके लिए भी भुट्टा एक सरल और उत्तम उपाय सिद्ध हो सकता है । इसमें प्रचुर मात्रामें ‘फाइबर’ पाया जाता है, जो कि भारको नियन्त्रित रखनेके साथ ही उसे न्यून करनेमें भी सहायता कर सकता है । इसके अतिरिक्त, भुट्टेके बालका उपयोग भी बढते भारको रोकनेमें […]

आगे पढें

घरका वैद्य – मक्की (भाग – १२)


‘न्यूट्रीशन इंडेक्स : एंटीऑक्सीडेंट्स’से भरपूर १०० ग्राम भुट्टेके दाने लगभग ३६० ‘कैलोरी’ ऊर्जा प्रदान करते हैं । इसमें ७ प्रतिशत वसा, १८ प्रतिशत ‘प्रोटीन’, २४ प्रतिशत ‘कार्बोहाइड्रेट’ और ८ प्रतिशत ‘पोटैशियम’ होता है । साथ ही इसमें ३१% ‘मैग्नीशियम’, ३०% ‘विटामिन-बी६’ और १५ प्रतिशत ‘आयरन’ होता है । इसके अलावा यह ‘कैल्शियम’, ‘फॉस्फोरस’, ‘कैरोटीन’, ‘फॉलिक […]

आगे पढें

घरका वैद्य – मक्का (भाग-११)


* गर्भावस्थामें है सहायक : मां और बच्चे दोनोंके लिए गर्भावस्थाके मध्य इसके कई लाभ हैं । मक्का ‘फोलिक एसिड’से भरे होते हैं, इसमें ‘जेक्सैन्थिन’ और रोगनाशक अम्ल होता है जो बच्चेमें जन्म दोषोंके कष्टको कम करता है । यह बच्चेको मांसपेशियोंके विकृति और शारीरिक समस्याओंसे बचा सकता है । इसकी उच्च ‘फाइबर’ सामग्रीके कारण, […]

आगे पढें

घरका वैद्य – मक्का (भाग-१०)


* रक्त शर्करा और ‘कोलेस्ट्रॉल’के लिए : स्तरको कम करता है ‘स्वीट कॉर्न’ और मक्केका तेल रक्तके प्रवाहको बढाता है, ‘कोलेस्ट्रॉल’के अवशोषणको कम करता है और ‘इंसुलिन’को नियन्त्रित करता है, जिससे यह मधुमेह और ‘कोलेस्ट्रॉल’के रोगियोंके लिए एक उत्कृष्ट विकल्प है । विशेषज्ञोंकी मानें तो यह ‘कार्ब्स’में समृद्ध है और ऊर्जाका एक बडा स्रोत है […]

आगे पढें

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution