अध्यात्म एवं साधना

मंदिरमें प्रेमसे एवं निरपेक्ष भावसे सेवा करने के लाभ !


इन महोदयने भावसे जो सेवा मंदिर स्वच्छताकी की और वहीं बैठकर नामजप भी किया इसकारण हनुमानजीने उनके कष्टको न्यून किया है और वे आश्रममें आकर साधना सीखकर गए हैं…..

आगे पढें

साधना करते हुए किसी औरसे भी करवाकर लेना, खरी मानवता, खरी तपस्या!


जब दो व्यक्ति निकट सम्बन्धी हो और दोनों साधना करते हैं तो उस सम्बन्धको आध्यात्मिकता प्राप्त होती है और वह सम्बन्ध और मधुर एवं पवित्र बनता है ! जैसे पति-पत्नी दोनों साधनारत हों तो उनका सम्बन्ध आध्यात्मिक होनेसे यदि वे इस जन्ममें मुक्त नहीं हुए तो भी वह अनेक …..

आगे पढें

ब्राह्मणकी जीवन तप और त्यागके लिए ही बना है


कुछ दिवस पूर्व एक कर्मकाण्डमें अच्छी पकड रखनेवाले पुरोहितसे मेरी भेंट हुई । वे किसी कार्यक्रममें यज्ञका संचालन कर रहे थे । उस यज्ञमें जिसप्रकारसे वे सब कुछ लोगोंको…..

आगे पढें

अपने बच्चोंको खरे अर्थोंमें सुखी देखना चाहते हैं तो साधनाके लिए समय निकालें !


ध्यान रहे हमारे जीवनकी ८० % प्रतिशत समस्याएं आध्यात्मिक होती हैं अर्थात धन अर्जित कर आप अपने बच्चोंको मात्र २० % ही सुख दे सकते हैं अतः यदि अपने बच्चोंको खरे अर्थोंमें सुखी देखना चाहते हैं…..

आगे पढें

यूरोप धर्मयात्रा २०१९


यूरोपमें वर्ष २०१३ में भिन्न स्थानोंपर प्रवचनके माध्यमसे जो धर्म और साधनाका बीजारोपण ईश्वरने मुझसे करवाया था उसका उत्तम प्रतिसाद कुछ साधकोंके घरपर देखनेको इस वर्ष इस धर्मयात्राके मध्य मिला । जर्मनीके फ्रेंकफर्ट नगरके  श्री प्रकाश चाननाका घर आश्रम समान ……

आगे पढें

यूरोप धर्मयात्रा २०१९


इटलीमें हमारे एक साधकको कुछ लोग धार्मिक (आध्यात्मिक) समझकर उन्हें भारतसे अनेक देवी-देवताओंकी मूर्ति या चित्र भेंटके रूपमें देते थे ! जब मैं उनके घर पहुंची तो मुझे उनके घरके स्पन्दनमें बहुत अधिक अंतर ध्यानमें आया….

आगे पढें

साधना मनानुसार नहीं, गुरुके मार्गदर्शनमें या अध्यात्मशास्त्र अनुसार करनी चाहिए !


कल ऑस्ट्रियाके ‘हरि ॐ मंदिर’के प्रवचनके पश्चात एक जिज्ञासु मिलने आया । उसको देखते ही समझमें आया कि उसकी सूर्य और चन्द्र नाडी असंतुलित है । मैंने उनसे पूछा कि क्या आप तेज तत्त्वकी साधना करते हैं तो…….

आगे पढें

ईश्वरसे सतत अनुसन्धान बनाकर रखनेके लाभ!


गुरुपूर्णिमासे एक दिवस पूर्व मेरा स्वास्थ्य ठीक नहीं था, मैं चाहकर भी उठ नहीं पा रही थी, प्रातः तीन बजे उठकर मैंने एक घंट जप करनेके पश्चात स्वास्थ्य ठीक न होनेपर भी दो घंटेसे सेवा की थी; किन्तु……….

आगे पढें

स्त्रियोंको धर्म सिखाना क्यों आवश्यक है ? (भाग-३)


साधना करना प्रत्येक जीवका मौलिक एवं जन्मसिद्ध अधिकार है और यदि कोई उसे करना चाहता हो तो उसके मार्गमें स्वार्थवश, मोहवश या अहंकारवश, भूलसे भी अडचनें निर्माण नहीं करना चाहिए…..

आगे पढें

स्त्रियोंको बाल्यकालसे ही साधना क्यों सिखाना चाहिए (भाग-२)


आज अधिकांश पुत्रियोंको धर्म एवं साधनाका संस्कार घरमें नहीं दिया जाता है । इसके परिणामस्वरूप उनमें जो विनम्रता धर्म और साधनासे आती है, वह रहती नहीं है……

आगे पढें

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution