अवैध मस्जिद निर्माणके विरुद्ध बोलनेपर भाजपा सांसदको ‘मीम सेना’ने दी चेतावनी !


जून २१, २०१९

पश्चिमी देहलीसे भाजपा सांसद प्रवेश वर्माको शासकीय भूमि और सडकके किनारे अवैध रुपसे मस्जिदोंके निर्माणका प्रकरण उठानेके प्रकरणमें धमकियां मिल रही हैं । प्रवेश वर्माने गुरुवार, २० जूनको पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायकको पत्र लिखकर बताया है कि उन्हें फोनपर एसएमएस भेजकर और सामाजिक प्रसार माध्यमकेद्वारा मारनेकी चेतावनी दी जा रही है । उन्होंने इस प्रकरणकी जांचकर आरोपियोंका अभिज्ञान करने और उनके विरुद्घ कार्यवाही करनेकी मांग की है ।

पश्चिम देहलीसे बीजेपी सांसद प्रवेश वर्माने गुरुवारको दावा किया कि शासकीय भूमि और सडक किनारे मस्जिदोंके कथित निर्माणका प्रकरण उठानेपर उन्हें चेतावनी मिली है ।

प्रवेशका कहना है कि उन्होंने १७ अवैध मस्जिदें और कब्रिस्तान बनानेका मुद्दा उठाते हुए देहलीके उप राज्यपालको पत्र लिखा था । इसमें उन्होंने मांग की थी कि सभी सम्बन्धित विभागोंके अधिकारियोंकी समितिका गठन करके इस समूचे प्रकरणकी जांच कराई जाए और अवैध निर्माणोंको हटाया जाए, जिसके पश्चात उन्हें इस प्रकारकी चेतावनियां मिलनी आरम्भ हुईं हैं ।

अपने पत्रके साथ प्रवेशने चेतावनी भरे सन्देशके चित्र खींचकर भी साक्ष्यके रूपमें प्रस्तुत किया है । प्रवेशके अनुसार, मीम सेना नामक एक संगठनके नैशनल प्रेसिडेंट शादाब चौहानके नामसे उन्हें सन्देश भेजकर चेतावनी दी जा रही है कि यदि उन्होंने मस्जिदोंको लक्ष्य किया, तो मीम सेना उन्हें पाठ पठाएगी । ट्विटरपर मिली चेतावनीमें लिखा गया है, “यदि तुमने हमारी मस्जिदोंको लक्ष्य किया तो तुम्हें पाठ पढा दिया जाएगा । तुम हमारी शक्ति नहीं जानते, मैं तुम्हें चुनौती करता हूं, तुम हमारी एक भी अवैध मस्जिदको छूकर दिखाओ ।”

“ये तो चोरी और सीना जोरी है । खुलेमें हो रहे लैंड जिहादको समर्थन किया जा रहा है और हमारे शासकगण मौन हैं । यदि हमने समय रहते इन अवैध मस्जिदों और कथित मजारोंको नहीं रोका तो देहली अपने मुगल कालमें पहुंच जाए तो कोई विचित्र बात नहीं होगी । पुलिसका व एमसीडीका इन अवैध निर्माणपर मौन भी प्रश्नचिह्न लगाता है । केन्द्र कृपया इसमें हस्तक्षेप करे और सभी अवैध निर्माणको हटाएं ।”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : ऑप इण्डिया



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution