जिहादियोंका दुस्साहस, झारखण्डमें विद्यालय जा रही सातवींकी छात्राका अपहरणकर किया दुष्कर्म !


जुलाई ८, २०१९

झारखण्डके साहिबगंजमें सोमवार, ८ जुलाईको एक निजी विद्यालयकी कक्षा सातकी छात्रासे दुष्कर्मका प्रकरण सामने आया है । पुलिस इसकी जांच कर रही है ।

साहिबगंजके एक प्रतिष्ठित विद्यालयकी सातवीं कक्षाकी छात्राको सोमवार प्रातः मस्जिद रोड सकरूगढके मो. अब्दुल्ला नामक युवकने अपने तीन-चार मित्रोंके सहयोगसे अपहरण कर लिया और उसके साथ दुष्कर्म किया । पुत्रीके अपहरणकी सूचनापर बच्चीके पिता वहांपर पहुंचे और उसे युवकके चंगुलसे मुक्त कराया । इस मध्य आरोपी व उसके मित्रों और पीडिताके पिताके मध्य हाथापाई भी हुई, जिसमें आरोपीके साथ-साथ लडकीके पिता भी चैटिल हो गए । वहां पहुंची पुलिसने मो. अब्दुल्ला व उसके भाई मो. मेजान अंसारीको बन्दी बना लिया है और आरोपीकी स्कॉर्पियो भी अधिकृत की है ।

छात्राने पुलिसको बताया कि वह सोमवारको लगभग दस बजे साइकिलसे विद्यालय जा रही थी । इसी मध्य सकरूगढ मुख्य मार्गसे मो. अब्दुल्ला और उसके तीन-चार मित्रोंने उसका अपहरण कर लिया । अब्दुल्ला व उसके भाई मो. मेजानको वह पहचान गई । ये लोग उसे बलपूर्वक स्कॉर्पियोमें ले गए । कुछ दूर एक मैदानमें ले जाकर वाहनमें ही उसके साथ आरोपीने दुष्कर्म किया । इस मध्य, अन्य लडके वाहनके बाहर खडे रहे । लडकीका चचेरा भाई उसी रास्तेसे जा रहा था । उसे किसी प्रकार यह जानकारी मिल गई । उसने लडकीके पिताको घटनाकी जानकारी दी । वह तुरन्त वहां पहुंचे और वाहनमें तोडफोड आरम्भ कर दी ।

युवकोंने पीडिताके पिताका मोबाइल, जेबमें रखे पैसे, वाहनकी चाबी छीन ली । इधर, सूचना पाते ही भाजपा व आरएसएससे जुडे कई लोग नगर थाने पहुंच गए । उन्होंने दोषियोंको तुरंत कारावास भेजनेकी मांग की । दूसरे पक्षके लोग भी थाना पहुंचे । प्रकरण तनावपूर्ण होता जा रहा था । एसपी एचपी जनार्दनन भी पहुंचे । दोनों पक्षोंको वहांसे हटनेका आदेश दिया; परन्तु लोग हटनेको तैयार नहीं थे । तब पुलिसने झाराको वहांसे खदेडा ।

“जिहादियोंका अब ऐसा दुस्साहस हो गया है कि वे दिनदहाडे हिन्दू युवतियोंको उठाकर दुष्कर्म कर रहे हैं और निर्लज्ज हिन्दू समाज एक-दूसरेका इतना भी साथ नहीं देता कि किसीकी पुत्रीसे दुष्कर्म हो रहा है और सभी मिलकर उसके पिताकी सहायता करें और वहीं जिहादी अनुचित कृत्यका समर्थन करनेके लिए निर्लज्ज होकर थानेमें लड रहे हैं। इससे ज्ञात होता है कि हिन्दुओंकी मानसिकता कितनी गिर चुकी है !  – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : ऑप इण्डिया



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution