झाड-फूक करवाने आनेवाली महिलाको मादक प्रसाद खिलाकर तांत्रिक मोहम्मदने किया दुष्कर्म !


जुलाई ७, २०१९

हरियाणाके टोहानामें पुलिसने झाड फूंक करवानेवाली एक महिलाके साथ उसे प्रसादमें मादक (नशीला) पदार्थ खिलाकर दुष्कर्म करनेके आरोपी तान्त्रिकको बन्दी बनाया है । पुलिसने पीडिताकी परिवादपर आरोपी गिल्लां वाली ढाणी निवासी मोहम्मद अलीके विरुद्ध धारा-३७६ (२) एन, ३८६, ५०६ व ३२८ ‘भादंसं’के अन्तर्गत प्रकरण प्रविष्टकर न्यायालयमें प्रस्तुत किया । जहां न्यायाधीशने पुलिसके आग्रहपर उसे एक दिनके पुलिस रिमांडपर भेजे जानेके आदेश दिए हैं ।

पीडिताने बताया कि उसका अपने पतिके साथ तलाक हो चुका है । उसने बताया कि लगभग चार वर्ष पूर्व झाड-फूंक करने वाले उक्त आरोपी मोहम्मद अलीके साथ उसकी जान पहचान हो गई थी । उसने बताया कि वह भी उसके पास झाड-फूंक करवाने जाती थी । उसने बताया कि झाड फूंक करवानेके मध्य लगभग चार-पांच माह पश्चात आरोपीने उसे पीरका प्रसाद कहकर कुछ मादक पदार्थ खिला दिया, जिससे वह अचेत (बेहोश) हो गई ।

उसके पश्चात उसने बिना उसकी इच्छाके उसके साथ दुष्कर्म किया । होशमें आनेपर जब उसे दुष्कर्मके बारे ज्ञात हुआ तो उसने इस बातपर विरोध किया तो इसपर आरोपीने कहा कि वह तेरेको पसंद करता है तथा तेरे बिना रह नहीं सकता । फिर उसने चेतावनी देते हुए कहा कि इसलिए यदि तूने किसीको इस बारेमें कुछ बताया तो तेरेको बदनाम कर दूंगा तथा मरवा दूंगा । पीडिताने कहा कि उसके मौनका लाभ उठाते हुए उसके पश्चात भी वह उसे भयभीतकर उसके साथ दुष्कर्म करता रहा और उससे रुपए भी ऐंठता रहा है । महिलाने आरोपीके विरुद्ध कार्यवाही किए जानेकी मांग की है ।

“हिन्दू महिलाओंको जिहादियोंसे दूर रहना चाहिए । आए दिन हो रहे समाचारोंको देखते हुए भी नेत्रोंपर पट्टी बांधकर उनसे जानपहचान बढानेपर स्वयंका जीवन नष्ट करनेवाली हिन्दू महिलाएं स्वयं इसकी उत्तरदायी हैं ।” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : भास्कर



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution