देहलीके जहांगीरबादमें धर्मान्ध इरशादने किया शिवलिंगपर मूत्र, क्षेत्रमें तनाव !


जुलाई ६, २०१९

देहलीके चांदनी चौकमें दुर्गा मंदिरमें तोड-फोडका विवाद अभी थमा भी नहीं था कि साम्प्रदायिक तनावको बढानेके लिए इरशाद नामक जिहादीने नगरके जहांगीरबादमें महादेवके मंदिरमें शिवलिंगपर मूत्र किया । जिससे क्षेत्रमें तनावका वातावरण है । प्राचीन शिव मंदिरकी पवित्रताको नष्ट करनेवाले इरशादके विरुद्ध बजरंग दलके सदस्योंने पुलिसमें परिवाद प्रविष्ट की । इसके पश्चित बुलंदशहर पुलिसने उसे तुरंत बन्दी बना लिया ।

बजरंग दलके सदस्य यतिंदर गेहनाने बताया कि ईरानी नामक एक मुसलमानको जहांगीराबाद क्षेत्रकी पुरानी मंडीके प्राचीन शिव मंदिरके शिवलिंगपर मूत्र करते हुए पकडा गया । वह प्रायः मंदिर परिसरके आसपास छिपा हुआ पाया जाता था । यहांके लोग उसके कृत्यसे क्रोधित हैं । वह वहांसे भाग गया है ।”

बुलंदशहर पुलिसने इस घटनाकी पुष्टि करते हुए ट्वीट किया कि आरोपी ‘इरशाद’को भारतीय दंड संहिता धारा-२९५ के अन्तर्गत (धर्मका अपमान करनेके उद्देश्यसे पूजा स्थलपर चोट पहुंचाना या परिभाषित करना) और ‘धारा-१५३ ए’के (विभिन्न धार्मिक समूहोंके मध्य शत्रुताको बढावा देना) अतर्गत प्रकरण प्रविष्ट किया गया है और उसे तुरंत कारावास भेज दिया ।

तो आज जिहादियोंका दुस्साहस इतना बढ गया है कि शिवलिंगपर मूत्र कर दिया है । हिन्दुओ ! यह आप लोगोंकी धर्महीनता व भाईचारेका ही परिणाम है । यह जिहादी मृत्युदण्डका पात्र है; परन्तु देगा कौन ? शासन तो मदरसोंको आधुनिक बनानेमें व्यस्त है । अब हिन्दू राष्ट्रकी स्थापना ही एकमात्र समाधान है ।” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : ऑप इण्डिया



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution