पश्चिम बंगालमें तृणमूलके गुण्डोंने भाजपाके ३ कार्यकर्ताओंको मारा !!


जून १०, २०१९

बंगालके २४ उत्तर परगनामें टीएमसी-बीजेपी कार्यकर्ताओंके मध्य आपसी झडपमें ३ लोगोंकी मृत्यु हो गई है । प्रकरणकी जांच कर रही पुलिसके अनुसार यह समूचा प्रकरण पार्टीके ध्वजको उतारनेसे आरम्भ हुआ था । इस झडपके समय टीएमसीके एक कार्यकर्ता कायुम मोल्लहकी हत्याकी बात सामने आ रही है । वहीं बीजेपीका कहना है कि टीएमसीके गुंडोंने उनके २ कार्यकर्ताओंको गोली मारी दी है, जिसमें उनकी मृत्यु हो गई । यद्यपि बीजेपीके नेता मुकुल रॉयने इस घटनाके सामने आनेके पश्चात एक ट्वीट किया । उन्होंने लिखा कि बीजेपीके तीन कार्यकर्ताओंको टीएमसीके गुंडोंने संदेशखाली क्षेत्रमें गोली मार दी है । बीजेपी कार्यकर्ताओंके साथ हो रही इसप्रकारकी घटनाके लिए ममता बैनर्जी स्वयं उत्तरदायी हैं । हम इस समूचे प्रकरणकी परिवाद केन्द्रीय गृहमन्त्री अमित शाहजीसे करेंगें । वहीं पश्चिम बंगाल बीजेपीके प्रमुख विजयवर्गीयने भी इस झडप और बीजेपीके कार्यकर्ताओंकी हत्यापर शोक प्रकट किया है ।

उल्लेखनीय है कि टीएमसी-बीजेपी कार्यकर्ताओंके मध्य आपसी झडपकी यह कोई प्रथम घटना नहीं है । इससे पहले कोलकातामें अमित शाहके रोड शोके समय भाजपा और तृणमूल कांग्रेस समर्थकोंके मध्य हिंसक झडपें हुई थी । यद्यपि उस समय शाहको किसी प्रकारकी चोट नहीं आई थी और पुलिस उन्हें सुरक्षित स्थानपर ले गई । हिंसा तब भडक उठी, जब विद्यासागर महाविद्यालयके भीतरसे टीएमसीके कथित समर्थकोंने उनके दलपर पथराव किया, जिससे दोनों दलोंके समर्थकोंके मध्य झडपें हुई थीं ।

क्रोधित भाजपा समर्थकोंने भी उसीप्रकार प्रतिक्रिया दी और महाविद्यालयके प्रवेशद्वारके बाहर टीएमसी प्रतिद्वंद्वियोंके साथ मारपीट करते दिखे । इस घटनाके पश्चित ममता बैनर्जी और बीजेपीके मध्य आरोप-प्रत्यारोप भी आरम्भ हो गया था ।

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाहने कहा था कि टीएमसीके गुंडोंने मुझपर आक्रमण करनेका प्रयास किया । ममता बनर्जीने हिंसा भडकानेका प्रयास किया; परन्तु मैं सुरक्षित हूं ।  

उधर, ममता बनर्जीने इसपर प्रतिक्रिया देते हुए शाहको ‘गुंडा’ बताया था । उन्होंने कहा था कि यदि आप विद्यासागरतक हाथ ले जाते हैं तो मैं आपको गुंडेके अतिरिक्त क्या कहूंगी ? उन्होंने कहा था कि मुझे आपकी विचारधारासे घृणा है ।

इस बीच बीजेपीने चुनाव आयोगसे बंगालकी मुख्यमन्त्री ममता बनर्जीको राज्यमें चुनाव-प्रचारसे रोकनेका अनुरोध किया और आरोप लगाया था कि वहां ‘संवैधानिक तन्त्र’ ध्वस्त हो गया है ।

“बंगालमें केन्द्र त्वरित राष्ट्रपति शासन घोषित करें और तृणमूलको सत्ताच्युतकर वहां शान्ति स्थापित करें । कमसे कम अब तो भाजपा अपने कार्यकर्ताओंकी ओर देखें । यदि कार्यकर्ता ही मरते रहे तो शेष लोग किसके विश्वासपर भाजपाको लाएंगें ?”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : एनडीटीवी



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution