पूरे मार्चमें १३०, अप्रैलके ७ दिवसमें ही १४५ दफन : ४ कब्रगाहोंके आंकडोंने ‘एजेंसियों’को चौंकाया


८ अप्रैल, २०२०

दैनिक भास्कर द्वाराकी गई एक जांचके अनुसार कोरोना प्रभावित इन्दौरमें अप्रैल माहके सात दिनोंमें मुसलमानोंके चार कब्रिस्तान, जो कि ‘क्वारंटाइन’ क्षेत्रमें स्थित है, वहां आनेवाले शवोंमें एकाएक वृद्धि हुई है ! इन सात दिनोंमें १४५ लोगोंको दफनाया गया है, जबकि गत माहमें केवल १३० शव ही आए थे । उल्लेखनीय है कि खजराना, चंदनगर, रानीपुर-दौलतगंज-हाथीपाला, आजादनगर, टाटपट्टी बाखल-सिलावटपुरा और बॉम्बे बाजार क्षेत्रोंमें ‘कोरोनोवायरस पॉजिटिव’के सबसे अधिक प्रकरण पाए गए ।

वहीं श्मशान घाटोंमें हिन्दुओंके दाह संस्कार करनेकी संख्या पहले जैसी है । चिंताजनक तथ्य है कि इन ७ दिनोंमें कोरोनाके कारण हुई मृत्युमें १३ केवल इन्दौरसे हैं ! ब्यौरेके अनुसार मृतकोंकी यात्राके इतिहास और कोरोना लक्षण दिखनेके पश्चात भी उनकी जांच नहीं की गई, जिसकी अब गुप्तचर विभागने जांच आरम्भ कर दी है ।

 यह अत्यन्त चिन्ताजनक विषय है कि विषाणुग्रस्त शवको जिहादी दबा रहे हैं और न ही शासनको कोई सूचना दे रहे हैं । भयावह स्तरपर फैलते इस संक्रमणको रोकने हेतु गुप्तचर विभाग व मध्यप्रदेश शासन इसपर त्वरित रोक लगाए !- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : ऑपइंडिया



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution