फारूक अब्दुल्लाका राष्ट्र विरोधी वक्तव्य, हमारा शासन आया तो ३० दिवसमें लाएंगे क्षेत्रीय स्वायत्ताका प्रस्ताव !


दिसम्बर २०, २०१८

जम्मू-कश्मीरके पूर्व मुख्यमन्त्री और ‘नैशनल कॉन्फ्रेंस’के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्लाने जम्मू-कश्मीरकी स्वायत्ताका राग पुनः छेड दिया है । उन्होंने कहा है कि यदि इस बारके विधानसभा मतदानमें ‘नैशनल कॉन्फ्रेंस’को बहुमत मिला तो वह ३० दिवसके भीतर एक प्रस्ताव पारित करेंगे, जिसके अन्तर्गत राज्यको स्वायत्तता दी जा सकेगी ।

फारूक अब्दुल्लाने राज्यमें राज्यपाल शासनको निरंकुश बताते हुए शीघ्र विधानसभा मतदानकी भी मांग की है । आपको यह भी बता दें कि जम्मू-कश्मीरमें राज्यपाल शासनके छह माह पश्चात राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया है । सम्भावना है कि राज्यमें विधानसभा मतदान या तो लोकसभाके साथ या ठीक उसके पश्चात कराए जा सकते हैं ।

गत विधानसभा मतदानमें हारकर राज्यकी सत्तासे बाहर हुई नैशनल कॉन्फ्रेंसके नेताने कहा, “यदि अल्लाहने चाहा और हमें बहुमत मिला तो ३० दिवसके भीतर हम क्षेत्रीय स्वायत्ताका प्रस्ताव पास करेंगे ।’ उल्लेखनीय है कि बुधवारको ही पीडीपीको उस समय झटका लगा जब उनके शासनमें मन्त्री रहे बशरत बुखारी और पीम मोहम्मद हुसैनने नैशनल कॉन्फ्रेंसका हाथ पकड लिया ।
इन दोनों नेताओंके अतिरिक्त आरएस पुरा सीटसे भाजपा विधायक रहे गगन भगत भी ‘नैशनल कॉन्फ्रेंस’से जुड गए ।

“फारुख अब्दुल्ला यदि भूल गए है तो पुनः स्मरण करवाना चाहेंगें कि कश्मीर भारतका ही अंग है, न किसीको यहां स्वायत्तता दी गई थी और न ही दी जाएगी ! पूर्वमें ही हम धर्मनिरपेक्ष रहकर बडी चूकें कर चूके हैं अब एक और चूक इस राष्ट्रका विभाजन ही कर देगी । केन्द्र शासनसे अपेक्षा है कि अब्दुल्लाके इस वक्तव्यपर उचित कार्यवाही करें !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : नभाटा



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution