बंगालमें जेएमबीके चार आतंकी पकडे गए, रच रहे थे बडा षडयन्त्र !


जून २६, २०१९

कोलकाताके सियालदह और हावडा रेलवे स्टेशनपर छापेमारीकर कोलकाता पुलिसके विशेष बलने जमात उल मुजाहिदीन बांग्लादेशके (जेएमबी) चार आतंकियोंको बन्दी बनाया है । इन आतंकियोंके पास ‘इस्लामिक स्टेट ऑफ सीरिया एंड इराक’के (आइएसआइएस) कई लिखितपत्र मिले हैं, जिससे आशंका प्रकट की गई है कि इन आतंकियोंका जेएमबीके साथ-साथ आइएसआइएस आतंकी संगठनके साथ भी सम्बन्ध है ।

इन चार सदस्योंसे पूछताछमें भी कई राज सामने आए हैं । आतंकी किसी बडी घटनाको करनेका षडयन्त्र कर रहे थे, जिसका प्रारुप तैयार किया जा रहा था । आतंकियोंसे मिले भ्रमणभाषमें (मोबाइलमें) बम बनानेकी योजना भी मिली है । सूत्रोंके अनुसार हावड़ा और सियालदह स्टेशन परिसरसे तीन बांग्लादेशी सहित चार आतंकियोंके पाससे आइएससे जुडे लिखितपत्रके साथ ही जिहादी पुस्तकोंकी पीडीएफ धारिका एवं फलकके डिजिटल प्रारूप मिलनेके पश्चात एसटीएफके कान खडे हो गए थे ।

संदिग्ध आतंकियोंको न्यायालयमें प्रस्तुत करनेके पश्चात रिमांडपर लेकर पूछताछ की गई तो कई तथ्य हाथ लगे हैं । जेएमबीके आतंकियोंने भारतमें फर्जी आधार कार्ड बनवाकर मुर्शिदाबादसे ‘सिम’ क्रय किया था ।

पूछताछमें आतंकियोंने जेएमबीके एक बडे नेताके कोलकातामें ही होनेके संकेत दिए हैं ! उक्त नेताके साथ बैठककर पश्चिम बंगालमें नए जेएमबीके कार्यकी रूपरेखा सज्ज की जानी थी ! संगठनके लिए धनको लेकर भी चर्चा होनी थी ।

उल्लेखनीय है कि बांग्‍लादेशी आतंकवादी संगठन नियो-जमियतुल मुजाहिदीन बांग्‍लादेश इस्‍लामिक स्‍टेटसे जुडा हुआ है और शासनने इसपर प्रतिबंध लगाया हुआ है । यह संगठन नियो जेएमबी जमियतुल मुजाहिदीन बांग्‍लादेशसे पृथक होकर बना है । जमियतुल मुजाहिदीन बांग्‍लादेश इस्‍लामिक स्‍टेटसे जुडा है । वर्ष २०१६ में इसी संगठनने ढाकामें एक भोजनालयपर आक्रमण किया था ।

बंगाल, केरल, तमिलनाडु, आन्ध्रप्रदेश, कश्मीर आदि वामपन्थी शासित राज्योंमें आतंकियोंका आश्रय पाना सहज ही हो गया है । जब ऐसे दल राष्ट्रके लिए संकट बन जाए तो इन्हें राजनीतिसे बाहर फेंक देना ही उत्तम होगा; क्योंकि यदि इन्हें बाहर नहीं फेंका गया तो ये देश बेचनेमें समय नहीं लगाएंगें यह पक्का है।”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : जागरण



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution