बांग्लादेशके मतदानसे पूर्व भयभीत हुए हिन्दू, भारतमें आश्रय लेनेका कर रहे प्रयास


दिसम्बर २७, २०१८

बांग्लादेशमें ३० दिसम्बरको २७० संसदीय सीटोंपर मतदान होने जा रहे हैं । कहा जा रहा है कि इस बार बांग्लादेशमें खालिदा जियाकी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी और शासन चला रही शेख हसीनाकी आवामी लीग पार्टीको कडी टक्कर देने वाली है । खालिदा जिया और उनकी दलको कट्टरपन्थी माना जाता हैं और वहां रह रहे अल्पसंख्यकोंके प्रति विशेषतया हिन्दुओंके प्रति उदारवादी मनोभाव नहीं रखनेका भी आरोप लगते आया है ।

खालिदाके शासन बननेकी आशाओंको देखते हुए बांग्लादेशके हिन्दू अल्पसंख्यक भयभीत हैं, जिस कारणसे बांग्लादेशसे हिन्दू अल्पसंख्यक भारतके उत्तर-पूर्वके बांग्लादेश सीमांत क्षेत्रोंसे भारतमें घुसपैठका प्रयास करनेकी सूचनाएं आई हैं । इसको लेकर भारतके उत्तर-पूर्वके ८ राज्यों और पश्चिम बंगालसे सटे भारत बांग्लादेशके ५१८२ किलोमीटरके सीमावर्ती क्षेत्रोंमें मतदानको लेकर चेतावनी दी गई है ।


गत दिवसोंमें ही ५ दिसम्बरके दिन मेघालयके दक्षिण गारो हिल्ससे ११ हिन्दू बांग्लादेशी भारतमें घुसपैठ करनेका प्रकरण सामने आया था । इन ११ हिन्दू बांग्लादेशी नागरिकोंको घुसपैठ करनेके अपराधमें पश्चिम बंगालके कूच बिहारमें बीएसएफने बन्दी बनाया था । उनसे पूछताछ कर बीएसएफको जानकारी मिली थी कि खालिदाका शासन बननेकी आशंकासे बांग्लादेशमें रह रहे हिन्दू अल्पसंख्यक भयभीत हैं ।


खालिदा जियाकी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टीका शासन बांग्लादेशमें जब भी आया हैं, तब-तब उसके समर्थकों और नेताओंका हिन्दू बांग्लादेशियोंपर अत्याचार करनेके प्रकरण सामने आने लगते हैं और इसलिए भारतकी भूमिको हिन्दू बांग्लादेशी सुरक्षित मानता हैं और इसलिए इस मध्य हिन्दुस्तानमें उत्तर-पूर्वके भारत बांग्लादेश सीमान्त क्षेत्रोंसे भारतमें घुसपैठकी घटनाएं बढ जाती हैं ।

उत्तर-पूर्वके भारत-बांग्लादेश सीमापर बीएसएफ आधुनिक तकनीक ‘सीआईबीएमएस’के आश्रयसे सीमापर देखरेख की जा रही है । बीएसएफके ८२ बटालियन उत्तर-पूर्व और पश्चिम बंगालसे सटे बांग्लादेश सीमापर तैनात है ।

स्रोत : जी न्यूज



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution