भारतीय सेनाने म्यांमारके साथ मिलकर १२ आतंकी स्थल नष्ट किए !


मार्च १५, २०१९

भारत और म्यांमारकी सेनाओंने म्यांमारके क्षेत्रमें उग्रवादियोंके विरुद्घ १७ फरवरीसे दो मार्चतक समन्वित अभियानमें उनके १२ स्थलोंको नष्ट कर दिया । यह अभियान ‘कालादान मल्टीमॉडल ट्रांजिट परिवहन परियोजना’पर संभावित संकटको टालनेके लिए चलाया गया । इस अभियानमें १२ सहस्रसे अधिक भारतीय सैनिकोंने भाग लिया ।

सेनाके वरिष्ठ अधिकारीने सीमा पार जाकर कार्यवाही करनेके समाचारोंसे मना किया । उन्होंने बताया कि भारतीय सेनाने इस अभियानके समय सीमा पार नहीं की । अधिकारीने बताया कि अभियानका उद्देश्य म्यांमारके उग्रवादी समूह ‘अराकान आर्मी’के सदस्योंपर कार्यवाही करना था । गत समयमें म्यांमार सीमामें दक्षिणी भागमें अत्यधिक संख्यामें ‘असम राइफल्स’की टुकडी तैनात की गई थी ।

‘असम राइफल्स’ने म्यांमार सेनाके साथ मिलकर उग्रवादियोंके विरुद्घ यह कार्यवाही की । उग्रवादी म्यांमारमें कालादान परियोजनापर काम कर रहे भारतीय कर्मियोंको आक्रमणकी चेतावनी देकर पैसे ऐंठनेका प्रयास कर रहे थे । यह परियोजना भारतद्वारा वित्तपोषित है । अधिकारीने बताया कि अभियानके समय भारतीय सेनाने नगालैंड और मणिपुरसे लगी सीमाके पास सुरक्षा बढाई ताकि उग्रवादी भारतकी ओर नहीं आ सकें ।

सेनाके अधिकारीने बताया कि अभियानके समय म्यांमारकी सेनाको हमने सैन्य सामग्री उपलब्ध कराए । इसके अतिरिक्त भारतने म्यांमार सेनाको रेडियो भी दिए ताकि अभियानके समय दोनों सेनाओंमें सम्पर्क रहे और किसी भी सम्भावित संकटसे बचा जा सके ।

कालादान परियोजना :
कालादान परियोजनाका उद्देश्य भारत और म्यांमारको समुद्र और भूमिके रास्तेसे जोडना है । म्यांमारकी कालादान परियोजनाके वर्ष २०२० तक आरम्भ होनेकी आशा प्रकट की जा रही है । ४८४ मिलियन डॉलरकी लागत आएगी इस परियोजनापर, यह धन भारत व्यय करेगा ।

सेनाके अधिकारीने बताया कि इसके मध्य म्यांमार सेनाका एक सैनिक आईईडी विस्फोटकसे गम्भीर रूपसे चोटिल हो गया । इस मध्य उन्होंने दो भारतीय सैनिकोंके हुतात्मा होनेके समाचारोंको भी नकार दिया ।

स्रोत : लाइव हिन्दुस्तान



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution