मद्यपान, मिशनरी, रावण: पालघरमें साधुओंकी ‘मॉब लिंचिंग’के पीछे बडा षड्यंत्र


२५ अप्रैल, २०२०

पालघरमें ‘मॉब लिंचिंग’ घटनापर जांचसे ज्ञात हुआ है कि यहां मद्यपानका व्यापार तथा ‘ईसाई मिशनरियों’द्वारा लोगोंका धर्मान्तरण करनेका प्रकरण चल रहा है । इसमें गत कुछ माहसे वृद्धि हुई है तथा इन सभी कार्योंको राजनैतिक संरक्षण भी प्राप्त है ! यहां रावणकी भी पूजा की जाती है । साधु-सन्तोंद्वारा इनका विरोध करनेपर उनसे शत्रुता निकाली जाती है । ‘मॉब लिंचिंग’की घटनापर प्रत्यक्षदर्शी गढ -चिचले गांवकी सरपंच चित्रा चौधरीके अनुसार जब वे साधुओंसे बात कर रही थीं तो भीडने एकाएक उन सबपर आक्रमण कर दिया और उन साधुओंके वाहनको पहले ‘पंक्चर’ किया, फिर उल्टा कर दिया । चित्राने बताया कि इस घटनामें उन्हें भी चोटें आईं और वह किसी प्रकार भागकर अपने घर पहुंचनेमें सफल रहीं। जबवे रात्रि १२ बजे पुन: ‘चेकपोस्ट’के पास पहुंची तो उन्होंने देखा कि वहां दोनों साधुओं और वाहन चालकके शव पडे हुए थे । वे पुलिसके आने तक किसी प्रकार भीडको नियन्त्रित करना चाहती थी; परन्तु पुलिस विलम्बसे पहुंची । इस घटनाको लेकर तीन दिन पश्चात लोगोंको पता चला, जब वीडियो प्रसारित हुआ। न केवल ‘मीडिया’ अपितु पालघर पुलिसने इस घटनाको दबानेका भरसक प्रयास किया ।

  _राजनैतिक संरक्षणमें जब धर्मान्तरण तथा साधुओंकी निर्मम हत्या जैसै कृत्य होंगे तो न्यायकी आशा कैसे करें ? अब हिन्दुओंको ही इस कथित धर्मनिरपेक्षताका राग आलापना छोडकर एकजुट होकर इन सबका विरोध करना होगा तथा हिन्दू राष्ट्रकी स्थापना हेतु अग्रसर होना होगा ! – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 स्रोत : ऑप इंडिया

 

 



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution