मरकजपर चलेगा ‘बुलडोजर’, अवैध है ७ तलका भवन : जमातने किया नियमोंका उल्लंघनकर निर्माण, कर भी नहीं भरा


५ अप्रैल, २०२०

भारतमें कोरोना संक्रमणके बडे स्रोत बने राजधानी देहली स्थित निजामुद्दीन क्षेत्रमें तबलीगी जमातके मुख्यालयके ‘अच्छे दिन’ आखिरकार अब समाप्त होने जा रहे हैं। दक्षिण देहलीके निजामुद्दीनमें तबलीगी जमातके मरकजका निर्माण नियमोंका उल्लंघनकर करनेका समाचार उजागर हुआ है । नगर निगमके ‘डिप्टी चेयरमैन’ राजपाल सिंहके अनुसार यह सात तलका (मंजिलका) भवन है, जबकि इसके भवनका दो तलका ही निर्माण अधिकृत है तथा इनके पास भवनके स्वामित्वके कागद (कागज) भी उपलब्ध नहीं हैं ! घनी जनसंख्यामें बने इस भवनमें आगसे सुरक्षाकी भी कोई सुविधा  नहीं है और न ही कभी अग्निशमन विभागसे ‘एनओसी’ ली गई है ।उल्लेखनीय है कि इस भवनके अवैध निर्माणकी स्थानीय लोगोंने अनेक बार परिवाद (शिकायत) की थी; परन्तु नगर निगम तथा पुलिस प्रशासनने कोई कार्यवाही नहीं की । अब इस भवनके अवैध निर्माणको तोडनेकी कार्यवाही आरम्भ हो चुकी है ।

          इससे स्पष्ट होता है कि जिहादी प्रशासनके नियमोंकी अवहेलना करते रहे और भाजपा शासित एमसीडी व देहली शासनने इसपर कोई कार्यवाही नहीं की ! वास्तवमें जिहादियोंको पोषित करके देशमें असन्तुलनके उत्तरदायी केवल और केवल आजके राजनीतिक दल हैं; परन्तु कमसे कम शासन तो जागे और शीघ्रातिशीघ्र इसे और ऐसे अनेक अवैध निर्माणको गिराए ! सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : ऑपइंडिया

 

 

 



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution