मां सीता ‘वेश्या’ और रावणसे थी बलात्कारके लिए ‘इच्छुक’ – हिन्दूफोबियासे ग्रसित वामपन्थी कवियोंकी कविता


५ मई ,२०२० 

पत्रकार सारस्वत पाणिग्रहीने राज्य व राष्ट्रीय स्तरपर पुरस्कार विजेता ‘हिन्दूफोबिया’से ग्रसित वामपंथी उडिया कवियोंकी उस प्रवृत्तिकी ओर ध्यान दिलाया है जिसमें उन्होने अपनी कविताओंमें हिन्दू देवी देवताओंका अपमान व अपशब्दोंका प्रयोग किया है । इसमें सुभाश्री सुभाष्मिता मिश्रने  सीता माताको ‘वेश्या’, राजेन्द्र किशोर पांडाने ‘रावणसे बलात्कारकी इच्छुक’ ‘अविश्वासी’ व ‘आसानीसे अग्नि परीक्षा पूरा’ करने वाली बताया है । एक अन्य धूर्त प्रदीप कुमार पांडाने ‘रामनवमी’नामक कवितामें’पोर्न’,’अस्पृश्यता’
‘शिक्षाकी कमी’ शब्दोका उपयोग करते हुए हिन्दू देवीके नाममें महिलाओंके ‘यौन शोषण’ और ‘वस्तुकरण’को दर्शाया  है । इसके लिए समाजिक जालस्थलोंपर प्रदीप पांडाको कई प्रतिक्रियाएं मिली व केदार मिश्रका समर्थन मिला जिसमें उसने भगवान राम व सीता मांको ‘टी.वी. धारावाहिकके केवल पात्र बोला ।  पाणिग्रहीने जब अन्य धर्मके रुपकोंके लिए ऐसे व्याख्यान लिखने बोला तो उन्हें ‘ब्लॉक’कर दिया गया । ऐसे तथाकथित कवियोंके विरुद्ध परिवाद प्रविष्ट कराया गया है ।
आजके निर्धर्मी ,निर्लज्ज कवि धर्म शिक्षाके अभावमें अपने ही हिन्दू देवी देवताओंका अपमान कर रहे हैं और हिन्दू इनसबको सुन भी रहे है । ऐसे सब लोग हिन्दू कहलानेकी पात्रता नही रखते । उडीसा प्रशासनने इन सबको हिन्दू धार्मिक भावनाओंको आहत करनेके लिए कठोर दंड देना चाहिए ,ऐसी हम अपेक्षा रखते है । इसप्रकारके धर्मपर आघातोंको रोकनेके लिए एकमात्र उपाय शीघ्रातिशीघ्र हिन्दू राष्ट्रकी स्थापना ही है ।-सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ 

स्रोत : ऑपइंडिया 



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution