वीरोंकी भूमिकी विडम्बना, जयपुरमें एक ७ वर्षीय बालिकाके साथ दुष्कर्म !


जुलाई ५, २०१९

राजस्थानकी राजधानी जयपुरके शास्‍त्रीनगरमें सात वर्षकी बच्‍चीसे दुष्‍कर्मका प्रकरण सामने आया है । सोमवार, १ जुलाई सन्ध्याको हुई इस घटनाके पश्चात क्रोधित लोगोंने देर रात प्रदर्शन किया । स्‍थानीय लोगोंकी उग्र भीडका प्रदर्शन मंगलवारको भी जारी रहा, इस कारण स्थिति तनावपूर्ण है ।

प्राप्‍त जानकारीके अनुसार, शास्‍त्रीनगर थाना क्षेत्रमें सोमवार सन्ध्या एक मोटरसाइकिल सवार घरके बाहर खेल रही बच्‍चीको अपने साथ ले गया । उसने बच्‍चीसे कहा था कि वह उसके पिताका मित्र है । बताया जाता है कि आरोपी अमानीशाह नालेके पास दुष्कर्म करके लगभग दो घंटेके पश्चात बच्‍चीको उसके घरके पास फेंककर चला गया ।

बच्चीकी स्थिति गम्भीर देखकर परिवारने उसे पहले कांवटिया चिकित्सालयमें प्रविष्ट कराया, स्थितिमें सुधार न होनेपर देर रात्रि उसे जेके लोन चिकित्सालयमें भेज दिया गया । उग्र भीड रात भर चिकित्सालयके बाहर जुटी रही । पुलिसके उच्च अधिकारियोंने आरोपीको शीघ्र बन्दी बनानेका आश्‍वासन दिया है ।

उल्लेखनीय है कि शास्‍त्रीनगर थाना क्षेत्रमें कुछ ही दिवस पूर्व चार वर्षकी बच्‍चीके साथ भी दुष्कर्मकी घटना हुई थी । इस प्रकरणमें पुलिस अभीतक अपराधियोंका अभिज्ञान नहीं कर पाई है ।

“एक तो जिहादियोंकी बढती संख्या और दूसरी ओर कांग्रेस शासन, इन दोनोंने मिलकर वीरोंकी भूमि और शान्त राजस्थानको भी उपद्रव और दुष्कर्मका स्थान बना दिया है । कहां है वह क्षत्रियता, जो महिलाओंकी रक्षाके लिए कुछ भी कर गुजरती थी । अधर्म और तथाकथित आधुनिकताने सब कुछ समाप्त कर दिया है और हिन्दू आज केवल हाथपर हाथ धरकर देखनेको विवश हैं !” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : लाइव हिन्दुस्तान



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution