श्रीलंकाके पश्चात आईएसकी दृष्टि भारतपर, मन्दिरोंंपर आक्रमणका षडयन्त्र


जून २०, २०१९

श्रीलंकामें सीरियल बम विस्फोटका उत्तरदायित्व लेनेवाले आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेटकी दृष्टि अब भारतपर है । तमिलनाडुके कोयम्बटूरमें राष्ट्रीय जांच विभागने (एनआईए) १२ जूनको आईएस समर्थक चार संदिग्धोंको बन्दी बनाया था । सूत्रोंके अनुसार, आईएसके आतंकी कई मंदिरों और चर्चोंमें फिदायीन आक्रमणका षडयन्त्र कर रहे हैं । ये सभी उसी षडयन्त्रमें सम्मिलित थे ।

राष्ट्रीय जांच विभागने श्रीलंकासे मिली जानकारीके पश्चात १२ जूनको कोयम्बटूरमें सात स्थानोंपर छापेमारी की थी । इस मध्य एनआईएने चार लोगोंको बन्दी बनाया था । इनमें श्रीलंका विस्फोटोंका मुख्य आरोपी जहरान हाशिमका फेसबुक मित्र मोहम्मद अजरुदीन भी सम्मिलित है । अन्य संदिग्धोंमें शाहजहां, मोहम्मद हुसैन और शेख सैफुल्लाह हैं ।

गुप्तचर विभागने केरल पुलिस प्रशासनको पत्रकेद्वारा चेतावनी दी है । सूत्रोंके अनुसार, पत्रमें कहा गया है कि आईएसको सीरिया और ईराकमें अत्यधिक हानि हुई है, इसलिए आईएस अब हिंद महासागर क्षेत्रकी ओर बढ रहा है ।

पत्रमें यह भी कहा गया है कि आईएसने अब अपने समर्थकोंसे अपने-अपने देशमें रहकर ही सक्रिय रहनेको कहा है । कोच्चि और कोयम्बटूरके कई महत्वपूर्ण क्षेत्र आईएसके लक्ष्यपर हैं ।

पुलिस सूत्रोंके अनुसार, गत कुछ वर्षोंमें केरलके कमसे कम १०० लोग आईएसमें सम्मिलित हो चुके हैं । पुलिस राज्यमें ३००० से अधिक संदिग्धोंपर दृष्टि बनाए हुए है । इनमें अधिकतर संदिग्ध उत्तरी क्षेत्रसे हैं ।

श्रीलंकामें २१ अप्रैलको ईस्टरके दिन चर्चों और विश्रामालयोंमें ८ बम विस्फोट हुए थे । ११ भारतीयों सहित २५८ लोगोंकी मृत्यु हुई थी ।

“इस्लामका मूल उद्देश्य अन्योंको दबाना और नष्ट करना है । आइएस उसका जीवन्त उदाहरण है । केरलके व अन्य मुसलमान युवा आइएसमें सम्मिलित हो रहे हैं । यह बताता है कि वे युवा जिहादकी ओर बढ रहे हैं; क्योंकि जिहादका बीज बालपनमें ही बो दिया जाता है । भारत शासन इसे त्वरित रोके; अन्यथा इसे रोकना असम्भव हो जाएगा ।”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : भास्कर



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution