2015 में प्रदूषण से भारत में 25 लाख लोगों की मौत


भारत में वर्ष 2015 में वायु, जल और दूसरे तरह के प्रदूषणों की वजह से दुनिया में सबसे ज्यादा मौत हुईं। प्रदूषण की वजह से इस साल देश में 25 लाख लोगों की जान गई। लैंसेट जर्नल में आज प्रकाशित एक अध्ययन में यह बात कही गई है। शोधकर्ताओं ने कहा कि इनमें से अधिकतर मौतें प्रदूषण की वजह से होने वाली दिल की बीमारियों, स्ट्रोक, फेफड़ों के कैंसर और सांस की गंभीर बीमारी सीओपीडी जैसी गैर संचारी बीमारियों की वजह से हुईं।
PunjabKesari
शोधकर्ताओं में दिल्ली में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) दिल्ली और अमेरिका के इकाह्न स्कूल ऑफ मेडिसिन के विशेषज्ञ शामिल थे। शोधकर्ताओं ने कहा कि प्रदूषण से जुड़ी 92 फीसदी मौत निम्न से मध्यम आय वर्ग में हुईं।  भारत, पाकिस्तान, चीन, बांग्लादेश, मेडागास्कर और केन्या जैसे औद्योगीकरण से तेजी से जुड़े देशों में प्रदूषण की वजह से होने वाली हर चार में से एक मौत होती है।
PunjabKesari
सबसे ज्यादा मौत भारत में
-दुनिया भर में प्रदूषण से करीब 90 लाख लोगों की मौत
-भारत में 25 लाख मौत
-चीन में मरने वालों का आंकड़ा 18 लाखलैंसेट की यह रिपोर्ट दो वर्ष तक किए गए उस अध्ययन का नतीजा है जिसमें स्वास्थ्य और पर्यावरण से जुड़े 40 से अधिक विशेषज्ञों और लेखकों को शामिल किया गया था। इनमें पूर्व पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश और आईआईटी दिल्ली के प्रोफेसर मुकेश खरे भी शामिल थे।  रिपोर्ट के अनुसार, भारत में पर्यावरण प्रदूषणों में से वायु प्रदूषण सबसे घातक रहा है।PunjabKesari
वायु प्रदूषण से होने वाली मौतों में भारत के बाद चीन का स्थान रहा जहां 15 लाख 80 हजार लोग वायु प्रदूषण से होने वाली बीमारियों से असामयिक मौत मरे। चीन के बाद पाकिस्तान, बंगलादेश और रूस का नबंर रहा।   रिपोर्ट के निष्कर्ष में कहा गया है कि आज के समय दुनिया में सबसे ज्यादा बीमारियां पर्यावरण प्रदूषण की वजह से हो रही हैं। मलेरिया, एडस और तपेदिक से हर साल जितने लोग मरते हैं उससे तिगुने लोग प्रदूषण से होने वाली बीमारियों से मर जाते हैं। पर्यावरण प्रदूषण के कारण सांस लेने वाली हवा और जल स्रोतों के साथ जमीन की मिट्टी तक प्रदूषित हो जाती है जिससे मानव शरीर में कई तरह के संक्रमणों का खतरा पैदा हो जाता है। रिपोर्ट की वरिष्ठ संपादक डॉक्टर पामेला दास के अनुसार, इसका उद्देश्य दुनियाभर में पर्यावरण प्रदूषण को लेकर लोगों में जागरूकता पैदा करने के साथ ही नीति निर्धारकों को यह समझाना भी है कि वह पर्यावरण संरक्षण से जुड़े नियमों को प्रभावी तरीके से लागू करने की समुचित व्यवस्था करें।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

नियमित स्तम्भोंसे सम्बन्धित लेख

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution