उत्तरप्रदेशके बस्तीमें कांग्रेसका नोटके बदले वोट, २४ लाख पकडा गया, निर्धनों लोगोंंका वोट क्रय करना चाहता था !!


मई ९, २०१९


कांग्रेस पार्टीकी उत्तर प्रदेशमें जो स्थिति है, वो समूचा देश जानता है । कांग्रेस पार्टी एक वोट काटनेवाली बनकर चुनाव लड रही है, इस बातको स्वयं प्रियंका वाड्राने स्वीकार कर लिया था ।

कांग्रेसने उत्तर प्रदेशकी बस्ती सीटसे राज किशोर सिंह नामके नेताको प्रत्याशी बनाया है । अब बस्तीमें एक वाहन पकडा गया है, जिसमेंसे २४ लाख रुपए पाए गए हैं । इसमें दो लोगोंको बन्दी भी बनाया गया है और पुलिसने धन अधिकृत भी कर लिया है ।

सूचना यह दी गई है कि ये पैसा कांग्रेस प्रत्याशीका था, कांग्रेस पार्टी निर्धनोंको पैसा देकर वोट क्रय करनेमें लगी थी । उल्लेखनीय है कि धनके साथ-साथ वाहनसे राहुल गांधीके चित्र और पंजेका चुनाव चिह्न इत्यादि भी पकडा गया है !

यह तो केवल एक वाहन ही पकडा गया, जानकारोंके अनुसार ऐसे कई वाहन क्षेत्रमें घूम रहे हैं । कांग्रेस पार्टी निर्धनोंको प्रत्येक वोटके बदले २०० रुपए औसत दे रही है और साथ ही २०० रुपए देकर यह भी बताया जा रहा है कि मतदान केन्द्रपर जाकर पंजे वाले निशानका बटन दबा देना है ।

 

धनके साथ-साथ मद्य और अन्य वस्तुओंका भी लालच दिया जा रहा है । कांग्रेसका चुनाव अभियान ही वोट क्रय करनेको लेकर सिमट गया है, शेष स्थिति सबको ज्ञात है । कांग्रेस नेता यह जानते हैं कि राहुल और प्रियंकाके नामपर तो वोट नहीं मिलेगा इसी कारण वोटके बदले नोटका कार्य चलाया जा रहा है ।

 

“नोटके बदले वोट उन राजनीतिक दलोंकी देन हैं, जो पांच वर्षोंतक कुछ करना नहीं चाहते हैं और येन-केन प्रकारसे सत्ता पाकर प्रथम तो उस वितरण किए धनकी आपूर्ति करते हैं, तदोपरान्त घर भरना आरम्भ करते हैं । इन नेताओंने देश व लोकतान्त्रिक व्यवस्थाका उपहास बनाकर रख दिया है । न ही वे नेता सत्ता पाने योग्य होते हैं और न ही वह जनता चुनने योग्य होती है, जो धनके लालचमें वोट देकर ५ वर्षोंके लिए देशको नर्क बनवा देते हैं; अतः अब हिन्दू राष्ट्रकी आवश्यकता है, जहां योग्य राजनेता ही योग्य व्यक्तियोंद्वारा चुनकर आएंगें और राष्ट्र जिनकी प्राथमिकता होगी न कि धन !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : डीबीएन



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution