621 करोड़ का फ्रॉड, यूको बैंक के पूर्व CMD समेत 5 के खिलाफ केस दर्ज


नई दिल्ली : सीबीआई ने यूको बैंक (UCO BANK) के पूर्व सीएमडी अरुण कौल और अन्य के खिलाफ बैंक से 621 करोड़ रुपये की कथित रूप से धोखाधड़ी करने के लिए मामला दर्ज किया है. सीबीआई अधिकारियों ने बताया कि जांच एजेंसी इस सिलसिले में 10 स्थानों पर छापेमारी कर रही है. जिन जगहों पर छापेमारी की जा रही हैं, उनमें से 8 दिल्ली में और दो मुंबई में हैं.

दो सीए पर भी दर्ज हुआ केस
अधिकारियों ने बताया कि आरोप है कि आरोपी व्यक्तियों ने आपराधिक षड्यंत्र के तहत बैंक लोन की हेराफेरी करके यूको बैंक से करीब 621 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की है. उन्होंने कहा कि कौल के अलावा सीबीआई ने एरा इंजीनियरिंग इंफ्रा इंडिया लिमिटेड (मैसर्स ईईआईएल), उसके सीएमडी हेम सिंह भराना, दो चार्टर्ड अकाउंटेंट पंकज जैन और वंदना शारदा, मैसर्स अलटियस फिन्सर्व प्राइवेट लिमिटेड के पवन बंसल और अन्य अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

यूको बैंक को भी नुकसान हुआ
गौरतलब है कि पिछले दिनों सामने आए देश के सबसे बड़े बैंकिंग घोटाले पीएनबी में यूको बैंक को भी नुकसान हुआ है. पिछले दिनों बैंक की तरफ से बताया गया था कि 13 हजार करोड़ रुपये के घोटाले से हुए नुकसान की जद में यूको बैंक भी है. यूको बैंक ने बताया था कि पीएनबी घोटाले में उसके भी 41.18 करोड़ डॉलर यानी करीब 2,636 करोड़ रुपये फंसे हैं.

यूको बैंक ने शेयर बाजार को बताया था कि उसकी हांगकांग शाखा स्विफ्ट कोड के जरिये पीएनबी के गारंटीपत्र के आधार पर भुगतान की प्राप्ति कर लिये जाने के बाद निर्यात दस्तावेजों के बारे में विशेषज्ञों से बातचीत कर रही है. उसने कहा कि गारंटीपत्र के आवेदकों में कुछ ऐसे भी लोग शामिल हैं जो पीएनबी घोटाले में संलिप्त रहे हैं. उसने कहा, यह रकम करीब 41.18 करोड़ डॉलर है.

गौरतलब है कि अरबपति ज्वैलरी डिजायनर नीरव मोदी और उनके साझेदार मेहुल चौकसी पर आरोप है कि उनके परिवार के कुछ सदस्यों ने पंजाब नेशनल बैंक द्वारा जारी 150 गारंटी पत्रों के जरिये करीब 13 हजार करोड़ रुपये के फर्जी लेनदेन किए. इस मामले के सामने आने के बाद ईडी और सीबीआई ने नीरव मोदी और मेहुल चोकसी की 7000 करोड़ रुपये से ज्यादा की संपत्ति जब्त कर ली है.



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution