इंदिराने पाकके ९३००० सैनिक छोडे, पाकके पास थे भारतके ५४ सैनिक, किसीको ज्ञात नहीं उनकी स्थिति !!


मार्च २, २०१९


१९७१ के युद्धमें भारतकी सेनाने बलिदान देकर पाकिस्तानके २ भाग कर दिए, सेनाने कई सैनिकोंका बलिदान दिया और एक विश्व कीर्तिमान भी स्थापित किया ।

पाकिस्तानके ९३ सहस्र सैनिकोंको भारतीय सेनाने बंधक बनाया, भयके मारे पाकिस्तानके ९३ सहस्र सैनिकोंने भारतीय सेनाके समक्ष समर्पण किया था । भारतके अधिकारमें पाकिस्तानके ९३ सहस्र सैनिक थे; परन्तु पकिस्तानके पास भारतके ५४ सैनिक थे, उनकी सूचि यहां दी है –

इंदिराने ९३ सहस्र पाकिस्तानी सैनिकोको ऐसे ही लौटा दिया, इन ९३ सहस्र पाकिस्तानियोंको हमारी सेनाने सरलतासे नहीं, वरन अपना बलिदान देकर बंधक बनाया था । भारत उस समय पाकिस्तानसे ‘पीओके’ भी वापस ले सकता था, ये सभी सैनिट अधिकतर पाकिस्तानी पंजाबके थे, और पाकिस्तान इनको ऐसे ही छोड नहीं सकता था । इंदिराने ९३ सहस्र सैनिक छोडे; परन्तु पाकिस्तानके अधिकारमें भारतके ५४ सैनिकोंको नहीं छुडवा सकी ।

आजतक ये नहीं ज्ञात हुआ कि हमारे उन ५४ सैनिकोंका क्या हुआ ?, जो १९७१ में पाकिस्तानके युद्धबंदी बन गए थे, ये उनकी सूचि है –

 

कांग्रेससे क्या कोई एक प्रश्न भी पूछेगा ?, ९३ पाकिस्तानी सहस्र सैनिकोंको छोडनेवालोसे आजतक किसी समाचार माध्यमने भारतके ५४ सैनिकोंको लेकर एक प्रश्न भी नहीं पूछा है !!

 

“हमारा देश स्वतन्त्रताके पश्चातसे ही एक परिवारके बन्धनमें रहा और ९३,००० सैनिकोंके स्थानपर ‘पीओके’ और देशके सपूतोंको या तो वह नेता ले सकता है, जिसमें प्रखर राष्ट्रभक्ति हो या वह जिसका अपना बालक सेनामें हो ! दोनोंके अभावमें इस देशका दुर्भाग्य ही था कि आजतक निर्णय क्षमता व राष्ट्रप्रेमकी न्यूनतावाले नेता ही देशपर राज्य करते आए हैं । अब भारतको इस मानसिकतासे निकलनेकी आवश्यकता है; क्योंकि कब हम और खोनेकी स्थितिमें नहीं है !इसके लिए यह राष्ट्र आजतक सत्ता भोगते आए नेताओंसे उत्तर मांगना आरम्भ करें; अन्यथा यह राष्ट्र ऐसे ही सत्ताधारियोंकी गेंद बनकर उछाला जाता रहेगा !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : न्यूज १८

 



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution