आधार सॉफ्टवेयर हैक होनेका दावा, ‘यूआईडीएआई’ने कहा, भ्रम फैला रहे लोग !


सितम्बर ११, २०१८

आधारकी सूचनाओंकी सुरक्षा एक ऐसा विषय है, जो आरम्भ से ही प्रश्नचिह्न है । अब यस पुनः समाचारोंमें है, क्योंकि तीन माह तक चली एक जांचमें दावा किया गया है कि एक ‘सॉफ्टवेयर पैच’ है, जो ‘आधार आइडेंटिटी डेटाबेस’में प्रविष्ट सूचनाओंकी सुरक्षाको संकटमें डाल देता है ! ‘हफपोस्ट इण्डिया’के विवरणमें बताया गया है कि एक पैच, जिसे ‘यूनिक आइडेंटिफिकेशन ऑथोरिटी ऑफ इण्डिया’द्वारा बनाया नहीं किया गया है, इसकी सहायता से कथित रूपसे हैकर्स आधिकारिक ‘आधार एनरोलमेंट सॉफ्टवेयर’के सुरक्षाको बन्दकर अनाधिकृत आधार क्रमांक बना रहे हैं !

 

कांग्रेसने मंगलवारको कहा कि लोगोंके विवरण संकटमें हैं । विवरण अनुसार, कोई भी अनाधिकृत व्यक्ति २५०० रुपयेमें सरलता से मिलने वाले इस ‘पैच’के द्वारा विश्वमें कहीं भी आधार क्रमांक बना सकता है !

गत माह फ्रांसीसी सुरक्षा विशेषज्ञ इलियट एल्डर्सनने प्रश्न किया था कि क्यों ‘यूआईडीएआई’का चलभाष क्रमांक कई लोगोंके चलभाषपर उनकी जानकारीके बिना प्रविष्ट हो गया था । इसपर काफी विवाद हुआ था । अब उन्होंने एक बार पुनः कहा है कि सूचनामें सेंधको रोकनेके लिए हैकर्सके साथ कार्य करें !

उन्होंने कहा, “मैं दोहराता हूं कि कोई भी चीज ऐसी नहीं है, जिसे हैक न किया जा सके ! ये आधारपर भी लागू होता है ! कभी भी बहुत देर नहीं होती, सुनिए और हैकर्सको चेतावनी देनेके स्थानपर उनसे बात कीजिए ।” वहीं, ‘यूआईडीएआई’ने एक वक्तव्य देते हुए आधार सॉफ्वेयर हैक हो जानेके समाचारको निराधार कहा है । कुछ लोग जानबूझकर लोगोंके मनमें भ्रम पैदा करनेका प्रयास कर रहे हैं । किसी भी सूचनाको डिस्कमें संरक्षित करनेसे पूर्व आवश्यक सुरक्षा उपायोंको ध्यानमें रखा जाता है । कोई भी संचालक आधार बना या सुधार नहीं कर सकता है, जब तक कोई निवासी स्वयं अपनी बॉयोमेट्रिक विवरण उसे ना दे दे ।

“यह कोई प्रथम बार नहीं है, जो आधारकी सूचना उजागर हुई है, परन्तु अपनी चूकोंसे सिखनेके स्थानपर यह बयानबाजी केवल अहंकारी व्यवहारको दर्शाता है ।ध्यान रहे, कोटि हिन्दुस्तानियोंकी सूचनाओंकी सुरक्षाका उत्तरदायित्व आपने उठाया है !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : आजतक



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution