१२ अंकों वाले आधार क्रमांकको लेकर ‘यूआईडीएआई’ने दी यह चेतावनी !


अगस्त १, २०१८

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरणने (यूआईडीएआई) मंगलवारको लोगोंको चेतावनी दी कि वे अपना १२ अंकोंकी आधार संख्या जालस्थल (इण्टरनेट) व सामाजिक प्रसार माध्यमपर (सोशल मीडियापर) साझा नहीं करें ! प्राधिकरणकी यह चेतावनी ‘ट्राई’ अध्यक्षकी ओरसे आधार संख्या ‘ट्विटर’पर साझा कर ‘हैकरों’को चुनौती देनेके पश्चात आई है ।

‘यूआईडीआई’की ओरसे दिए वक्तव्यमें कहा गया कि इस प्रकारकी गतिविधि अनावश्यक है और इससे दूर रहना चाहिए; क्योंकि वैधानिक रूपसे ठीक नहीं है; इसलिए लोग सार्वजनिक रूप से आधार संख्या जालस्थलपर साझा कर दूसरोंको चुनौती देनेकी प्रवृत्तिसे बचे ! वक्तव्यमें चेतावनी दी गई कि किसी औरके आधार संख्यासे आधार प्रमाणित कराना या किसी अन्य कारणोंसे दूसरेका आधार संख्या प्रयोग करना ‘आधार कानून’ और भारतीय दण्ड संहिताके अन्तर्गत अवैधानिक है । यदि कोई इस कृत्यमें सम्मिलित हुआ पाया जाता है या इस प्रकारकी गतिविधिको प्रोत्साहित करता है, तो उसपर वैधानिक कार्यवाहीकी जा सकती है; इसलिए लोग इस प्रकारकी गतिविधिसे दूर रहें ! आधार विशिष्ट पहचान है और इसका प्रयोग विभिन्न सेवाएं, लाभ और अनुदान लेनेके लिए व्यक्तिकी पहचान स्थापित करनेके लिए की जा जाती है । ‘यूआईडीएआई’ नियमित रूपसे लोगोंको आधार संख्या प्रदर्शित करने, प्रकाशित करने या सार्वजनिक रूपसे साझा नहीं करनेके लिए जागरूक करता है ।

प्राधिकरणने कहा कि १२ अंकोंका आधार नम्बर व्यक्तिगत और संवेदनशील सूचना है, जैसे बैंक खाता संख्या, पासपोर्ट संख्या, पैन क्रमांक; इसलिए इसे तभी साझा किया जाए, जब वैधानिक रूपसे यह आवश्यक हो । ‘आईटी’ नियमोंके अन्तर्गत संवेदनशील सूचनाओंके प्रकाशन और सार्वजनिक रूपसे साझा करनेपर प्रतिबन्ध है ।

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरणके (ट्राई) अध्यक्ष आर एस शर्माने शनिवारको ‘ट्विटर’पर अपना आधार संख्या साझा किया था । साथ ही ‘हैकरों’को चुनौती दी थी कि वे इसमें सूचनाको ‘हैक’ कर निकालें और उसका दुरुपयोग करके दिखाएं ! इसके पश्चात कुछने दावा किया कि उन्होंने शर्माके बैंक खाते, ‘ईमेल’की सूचना प्राप्त कर ली है । यद्यपि शर्माने सूचना उद्घाटित होने से इनकार किया था।

स्रोत : लाइव हिन्दुस्तान



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution