आजकी निर्लज्ज पीढी


पूर्वकालमें वासनान्ध पुरुष वैश्यालयमें रात्रिके समय जिन तामसिक गीतोंको सुननेके लिए मुंह छुपाकर जाते थे, आज उसे सब अपनी बहू-बेटियोंके साथ अपने घरमें निर्लज्ज होकर देखते हैं और उसे हमने ‘आइटम सॉन्ग’का नाम दिया है । यदि इसे ही आधुनिकता कहते हैं, तो धिक्कार है ऐसी निर्लज्ज आधुनिकताको !



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution