‘मैं’ रूपी अहंकारका निर्माण न करें


हिन्दू राष्ट्रकी स्थापनाका कार्य करते समय ‘मैं करता हूं’, ऐसा अहं रखनेकी आवश्यकता नहीं; क्योंकि कालमहिमानुसार यह कार्य होनेवाला ही है;  परन्तु इस कार्यमें जो निःस्वार्थ रूपसे तन-मन-धनका त्याग कर सम्मिलित होंगे, उनकी साधना होगी और वे जन्म-मृत्युके फेरेसे मुक्त हो जाएंगे । – परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवले, संस्थापक सनातन संस्था



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution