वायुयानतलसे (एयरपोर्ट) दुष्कर्मके दोषी पादरीको बन्दी बनाया गया


जुलाई २०, २०१८

पंजाब पुलिसने जिरकपुरमें एक महिलासे बलात्कारकी परिवादके बाद दिल्ली अन्तर्राष्ट्रीय वायुयानतलसे आरोपी पादरीको बन्दी बनाया है । जिरकपुरके एसएचओ पवन कुमारने कहा कि पादरी बजिंदर सिंहको दिल्लीसे बन्दी बनाया है । वह वहांसे लन्दन जाने वाला था । लन्दनमें २१ जुलाईको उसका एक कार्यक्रम है ।

सूचनाके अनुसार, बजिंदर पंजाबके जालन्धरके एक गिरिजाघरका पादरी हैं । वह चिकित्सकके रूपमें लोगोंके मध्य लोकप्रिय है । चण्डीगढके निकट जिरकपुरकी महिलाने इस वर्ष मईमें थानेमें परिवाद की थी कि बजिन्दरने उसका यौन उत्पीडन किया । इतना ही नहीं उसने इसका वीडियो भी बना लिया और इसके पश्चात पीडिताको धमकाने लगा !

महिलाने आरोप लगाया कि अभियुक्तने उसे धमकी दी थी कि यदि वह उसकी मांगें नहीं मानती है तो वह इस वीडियोको सामाजिक प्रसार माध्यमोंपर साझा कर देगा । एसएचओने कहा, ‘हमें इस वर्ष मईमें महिलासे बलात्कारकी परिवाद मिली थी । तब से आरोपी रडारपर था । हमें उसके विरुद्ध अन्वेषणका आदेश मिला था । इंग्लैण्ड जानेसे पहले उसे पकड लिया ।’

उन्होंने कहा कि इस प्रकरणमें तीन से चार आरोपियोंके विरुद्ध प्राथमिकी अंकितकी गई है । पुलिसने बजिन्दरके विरुद्ध ‘भारतीय दण्ड संहिता’ (आईपीसी) और ‘आईटी अधिनियम’की विभिन्न धाराओंमें प्रकरण दर्ज किया है । इनमें आईपीसीके अन्तर्गत ३७६, ४२०, ३५४, २९४, ३२३ और ५०६ और आईटी एक्ट ६७ (यौन सामग्री संचारित करना) सम्मिलित है ।

बताते चलें कि इससे पूर्व भी कई बार पादरियोंद्वारा बलात्कार किया गया है । गत वर्ष पटनामें एक पादरीको बलात्कारके आरोपमें बन्दी बनाया गया था । पटनाके रहने वाले गिरिजाघरके पादरी चन्द्र कुमारपर दो महिलाओंने बलात्कार करनेका आरोप लगाया था । एक समाज सेवीकी पहलपर पीडिताने महिला थानेमें अभियोग किया था ।

स्रोत : नवभारत टाइम्स



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution