अमृतसरमें रावणदहनके समय रेलयानसे (ट्रेनसे) कटकर ६१ की मृत्यु, पंजाबमें राजकीय शोक


अक्तूबर २०, २०१८

पंजाबके अमृतसरमें शुक्रवार, १९ अक्तूबरकी संध्यामें रावण दहनके समय रेलयानने (ट्रेनने) लगभग ६० से अधिक लोग कालके गालमें पहुंचा दिया ! अमृतसरके जोडा फाटकके निकट शुक्रवार संध्या दशहराके अवसरपर रावण दहन देखनेके लिए बडी संख्यामें भीड उमडी थी । लोग रेलकी पटरियोंपर खडे होकर रावण दहन देख रहे थे, तभी एकाएक तीव्र गतिमें ट्रेन आई और सैकडों लोगोंको कुचलती हुई चली गई !! रेल पटरियोंपर खडे लोगोंके ट्रेनकी चपेटमें आनेसे कम-से-कम ६१ लोगोंकी मृत्यु हो गई, जबकि ७२ अन्य चोटिल हो गए ! रेलयान जालन्धरसे अमृतसर आ रहा था, तभी जोडा फाटकपर यह दुर्घटना हुई । इस भयावह दुर्घटनाको देखते हुए पंजाबमें एक दिवसके राजकीय शोककी घोषणा की गई है ।

“शास्त्रविधानुसार दशहरापर विजयके प्रतीकके रुपमें शस्त्रपूजनका विधान है, परन्तु जबसे शास्त्र छोड त्योहारोंको मनोरंजनका साधन माना है, हिन्दू प्रत्येक क्षेत्रमें पराजित हुए हैं ! और साथ ही प्रशासनकी यह चूक अक्षम्य है !” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : एनडीटीवी इण्डिया



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution