अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटीसे ‘एयरो स्पेस मिसाइल टेक्नोलॉजी’के महत्वपूर्ण शोधपत्र चोरी हुए !!


नवम्बर २९, २०१८

एकबार पुनः अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी चर्चामें है । इसबार ‘एएमयू एयरो स्पेस मिसाइल टेक्नोलॉजी’के शोधपत्र (रिसर्च पेपर) गुम होनेको लेकर है । एएमयूके ‘जेडएच कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी’के सेवानिवृत्त प्राध्यापक नूर अफजलने दो पूर्व कुलपतियोंके विरुद्ध गम्भीर आरोप लगाए हैं । प्रो. अफजल फिलहाल अमेरिकाके कैलिफोर्नियामें हैं । उन्होंने राष्ट्रपति एवं प्रधानमन्त्रीसे ऑनलाइन परिवद की है । सबसे गम्भीर आरोप यह है कि जेडएच कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी स्थित उनके कार्यालयसे वर्ष २०१३ में एयरो स्पेस मिसाइल टेक्नोलॉजीसे सम्बन्धित शोधपत्र चोरी हो गए थे, जिनके बारेमें आज तक ज्ञात नहीं हो पाया है । उस समय थाना सिविल लाइनमें इसकी परिवाद की गई थी ।

प्राध्यापक नूरके निकटवर्ती भारतीय समाज सेवक संगठनके अध्यक्ष चौधरी इफराहीम चौधरीने बताया कि प्रो. नूर अफजलने राष्ट्रपति, प्रधानमन्त्री, मानव संसाधन विकास मन्त्री, गृहमन्त्री, वित्तमन्त्री, बीजेपी अध्यक्ष, केन्द्रीय सतर्कता आयुक्त, मुख्यमन्त्री उत्तर प्रदेश एवं अलीगढके एसएसपीसे ऑनलाइन परिवाद की है । उन्होंने एक पूर्व उप कुलपतिपर आरोप लगाया है । उनका कहना है कि २००१ में वह विश्वविद्यालयके सबसे वरिष्ठ प्राध्यापक थे । नियमानुसार बाहर जानेपर उपकुलपतिको सबसे वरिष्ठ प्राध्यापकको कार्यभार देकर जाना होता था, परन्तु तत्कालीन उपकुलपति ८४ दिन बाहर गए थे और उन्हें सूचना तक नहीं दी ! २०१३ में उनके कार्यालयमें चोरीकी घटनाको लेकर एक अन्य उपकुलपतिके विरुद्ध गम्भीर आरोप लगाए हैं ।

उन्होंने यह भी आशंका प्रकट की है कि एयरो स्पेस मिसाइल टेक्नोलॉजीसे सम्बन्धित शोधपत्र किसी शत्रु देशके हाथ में न पहुंच गए हों । इस सम्बन्धमें एएमयू पीआरओ कार्यालयके एमआईसी प्रो. शाफे किदवईने बताया कि प्रो. नूर अफजल कई वर्ष पूर्व सेवानिवृत्त हुए थे । उनकी परिवादके बारेमें कोई जानकारी नहीं है । दूसरी ओर एसएसपी अजय कुमार साहनीका कहना है कि ऑनलाइन परिवाद अभी देखी नहीं है ।

स्रोत : न्यूज २४



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution