शिवसेनाकी महिला नेता चलाती थी ‘सेक्स रैकेट’, मध्य प्रदेश ‘पुलिस’ने अनुपमा तिवारी सहित १० अन्योंको भी बनाया बन्दी


११ नवम्बर, २०२१
      मध्य प्रदेशके सीहोर जनपदमें ‘पुलिस’ने ‘सेक्स रैकेट’का रहस्योद्घाटन किया है । इस ‘रैकेट’की मुखिया, शिवसेनाकी नेता अनुपमा तिवारी है । वह स्वयंको शिवसेनाकी नेताके अतिरिक्त, समाजसेविका, पत्रकार, ‘आईटीआई’ कार्यकर्ता और योगाचार्य भी बताती है । ‘पुलिस’ने सीहोर ‘बस’ स्थानकके (स्टैंडके) समीप स्थित अनुपमा तिवारीके निवासपर छापा मारकर, रविवार ७ नवम्बर २०२१ को, अर्धरात्रिमें ४ महिलाएं, ३ ग्राहक, गाडी चालक, महिला-प्रबन्धक और संचालिकाको बन्दी बना लिया । ये सभी महिलाएं बैरागढकी रहनेवाली हैं । इसके साथ ही, वहींपर मादकताकी वस्तुएं, वाहन और ‘नकदी’ भी अधिग्रहणमें ले लिया गया ।
         सूचनाके अनुसार, अनुपमा भोपालकी महिलाओंके घर जाकर, उनसे समाजिक कार्योंमें जुडनेकी बात कहती थी । इस प्रकार वे, कार्य पानेके प्रलोभनमें, उसके जालमें फंस जाती थीं । इसके पश्चात वह किसी न किसी बहानेसे उन्हें सीहोर बुलाती और उनकी विवशताका लाभ उठाकर, उनको देह व्यापारके लिए विवश करती थी । अनुपमाने ‘पुलिस’को स्वयं बताया कि महिलाओंके उद्यत होते ही, वह उन्हें ‘सेक्स रैकेट’के ‘वॉट्सऐप’ ग्रुपमें जोड लेती थी । अनुपमा केवल विवाहित महिलाओंको ही अपने जालमें फंसाती थी । ‘एएसपी’ समीर यादवने बताया कि अनुपमाका मानना था कि विवशता और कलङ्कित होनेके भयसे ऐसी महिलाएं शीघ्र भेद नहीं खोलती हैं ।
       अनुपमा तिवारीने वर्ष २०१६ में शिवसेनाकी ‘टिकट’पर नगर पालिकाध्यक्षका चुनाव लड़ा था, जिसमें वह पराजित हो गई थी ।  सीहोरके तत्कालीन ‘अपर कलेक्टर’द्वारा, नेहरू युवा केन्द्रके कार्यक्रममें योगाचार्यके रूपमें उसे सम्मानित भी किया जा चुका है ।
      उच्च पदोंपर आसीन ही, अधिकतर रंगे सियारकी भांति दुष्कार्योंमें लिप्त पाए जाते हैं, जिनका अनुसरणकर, सामान्य व्यक्ति भी अपना जीवन नष्ट कर देते हैं । ऐसे सियारोंके गलेमें फंदा डालना ही ‘पुलिस’का कर्तव्य एवं अधिकार है ।  – सम्पादक, वैदिक उपाासना पीठ
 
 
स्रोत : ऑप इंडिया


Leave a Reply

Your email address will not be published.

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution