अपने बच्चोंको खरे अर्थोंमें सुखी देखना चाहते हैं तो साधनाके लिए समय निकालें !


कुछ पुरुष कहते हैं कि मैं साधना हेतु समय नहीं निकाल पाता हूं क्योंकि मुझे मेरी चाकरी या व्यवसायसे समय नहीं मिलता है । वस्तुतः वे अधिक धन अर्जित करनेके चक्करमें समय नहीं निकाल पाते हैं । ऐसे सभी पुरुषोंको बता दें कि आप जिस धनको अर्जित कर अपने बच्चोंको सुख देना चाहते हैं उससे न ही आप उसके प्रारब्धकी तीव्रताको न्यून कर सकते हैं न ही पितृदोषको घटा सकते हैं और न ही अपने बच्चोंको सूक्ष्म जगतकी अनिष्ट शक्तियोंसे रक्षण कर सकते हैं । ध्यान रहे हमारे जीवनकी ८० % प्रतिशत समस्याएं आध्यात्मिक होती हैं अर्थात धन अर्जित कर आप अपने बच्चोंको मात्र २० % ही सुख दे सकते हैं अतः यदि अपने बच्चोंको खरे अर्थोंमें सुखी देखना चाहते हैं तो अपनी दिनचर्यामें धर्मपालन और साधनाको प्राथमिकता दें, उसके लिए समय निकालें ! धन आपके या आपके बच्चोंको मात्र और मात्र भौतिक सुख दे सकता है ! 



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution