किसीभी प्रकारका अपव्यय टालें !


पीनेवाला जल हो या भोजन, उसका अपव्यय न करें, अन्यथा ईश्वरीय विधान अनुसार इसका फल सूखाग्रस्त क्षेत्रमें रहकर या दरिद्र होकर इस जन्म या अगले जन्ममें भोगना ही पडता है । ईश्वरको अपव्यय कदापि प्रिय नहीं; अतः हर प्रकारका अपव्यय टालें !



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution