अतृप्त पूर्वजोंके कारण अनेक प्रकारके कष्ट हो सकते हैं


अतृप्त पूर्वजोंके कारण अनेक प्रकारके कष्ट देखे गए हैं जैसे विवाह न होना, निःसंतान होना, गर्भपात हो जाना, पति-पत्नीमें अनबन रहना, संबंध विच्छेद (तलाक) हो जाना, घरके सदस्योंका व्यसनी होना, घरके मुखिया या बडे संतानका शारीरिक, मानसिक और आर्थिक रूपसे सदैव कष्टमें रहना, कुलमें किसी व्याधिका वंशानुगत हो जाना, अर्थोपार्जनमें सदैव अडचनें आना इत्यादि|

पितृदोष निवारण हेतु पितृपक्ष एक स्वर्णिम संधि होती है इस मध्य हमारे पितर हमारे घरके या कुलके सदस्योंके पास आते हैं | यदि हम पितृपक्षमें वैदिक सनातन धर्म अनुसार पिटारोंकी तृप्ति हेतु सर्व प्रयास कर उन्हें तृप्त करते हैं तो हमें आशीर्वाद देते हैं | यदि हम उन्हें इस पक्ष में जल-तिल तर्पण, श्राद्ध , ब्राह्मण भोजन एवं श्रीगुरु देव दत्त का जप करते हैं तो वे वर्ष भर तृप्त रहते हैं |
इस हेतु पितृपक्ष में निम्नलिखित प्रयत्न करें |

  • पितृपक्षमें अपने मुखिया पितरके मृत्यु तिथिके दिन ब्राह्मण भोजन कराएं | तिथिकी  जानकारी न होने पर अमावस्या के दिन भोजन करवाएं, यह संभव न हो, तो ब्राह्मणको भोजन हेतु कुछ पैसे उस तिथिपर दें | (इस तिथिपर दरिद्रको भोजन करानेसे पितृ दोष निवारणमें कोई सहायता नहीं मिलती |)
  • पितृपक्षमें प्रतिदिन ७२ माला जप श्री गुरु देव दत्त का जप करें | पूरे पंद्रह दिवस घरमें चौबीस घंटे श्रीगुरुदेव दत्त का नामजप घर में चलाएं इस हेतु आप हमसे यह सीडी प्राप्त कर सकते हैं उस हेतु हमारे youtube channel पर जाकर इस सुन सकते हैं |
  • पितृपक्षमें घरके पुरुषने पितरोंको प्रतिदिन जल-तिल तर्पण कर श्राद्ध करना चाहिए  | इस हेतु गीता प्रेसकी किताब किसिस भी गीता प्रेस से जाकर ले सकते हैं |

साथ ही पितृदोष निवारण हेतु पितृपक्षके पश्चात भी निम्नलिखित उपाय करें |

  • दत्तात्रेय देवताके चित्र या मूर्तिकी प्रतिदिन पूजा करें |
  • कष्ट के तीव्रता अनुसार दो से ह घंटे नियमित “श्री गुरुदेव दत्त” का जप करें |
  • मासिक श्राद्ध करें
  • घरमें पितरोंके चित्र दृष्टिके सामनेसे या पूजा घर से हटा दें  | उसे या तो विसर्जित करें या अलमारीमें एक श्वेत वस्त्रमें बांधकर रख दें श्राद्धके दिन निकाल सकते हैं |
  • अधिकसे अधिक लोगोंको दत्तात्रेयका जप एवं पितृ दोष निवारण हेतु सारे मुद्दे बताएं |
  • संत कार्य या धर्मकार्यमें यथाशक्ति तन-मन-धनसे योगदान करें | – परात्पर गुरु – तनुजा ठाकुर


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution