‘फैजाबादका नाम होगा अयोध्‍या, राजा दशरथ चिकित्सिय संस्थान और रामके नामपर होगा विमानतल (एयरपोर्ट)’


नवम्बर ६, २०१८

मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथने अन्ततः दीपोत्सवके अवसरपर बहुप्रतीक्षित समाचार दे ही दिया । उन्होंने फैजाबाद छनपदका नाम परिवर्तित कर अयोध्या घोषित कर दिया ! इसके साथ ही जनपदमें निर्माणाधीन नूतन चिकित्सिय संस्थानका नामकरण भगवान रामके पिता राजा दशरथ और प्रस्तावित वायुयानतलका (एयरपोर्टका) नामकरण मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीरामके नामसे किया ! उन्होंने अयोध्याको १७६ कोटि रुपयेकी लागतकी विकास योजनाका उपहार देते हुए इनका लोकार्पण और शिलान्यास किया ।

मुख्यमन्त्री योगी मंगलवार, ६ नवम्बरको अयोध्याके श्रीराम कथा पार्कमें दीपोत्सवके अवसरपर आयोजित समारोहको सम्बोधित कर रहे थे । उन्होंने कहा कि अब फैजाबाद जनपदको अयोध्याके नामसे जाना जाएगा ! श्री योगीने कहा कि अयोध्याको पूरे विश्वमें भगवान रामसे जानते है । प्रभु श्रीराम हमारी आन, बान और शान हैं । उन्होंने कहा कि इस बार श्रीरामकी जन्मभूमिमें दीपोत्सवके अवसरपर वह नूतन संकल्प और उत्साहके साथ आए हैं । यहांके दीपोत्सवको प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदीका भी आशीर्वाद मिला ।

उन्होंने बताया कि इसके पूर्व प्रधानमंत्री श्री मोदीने नेपालसे अयोध्याके जुडावकी नूतन आरम्भ जनकपुरसे यहां तककी बस सेवाके माध्यमसे की थी । संतोंके साथ इस बार मैं भी राम-जानकी विवाहमें सम्मिलित होनेके लिए नेपालके जनकपुर जा रहा हूं ।

मुख्यमन्त्री श्री योगीने कहा कि अयोध्या क्या चाहती है, यह देशका प्रत्येक नागरिक जानता है । इसी भावनासे हम भी जुडने आए हैं । अयोध्याके साथ विश्वकी कोई शक्ति अन्याय नहीं कर सकती । उन्होंने पूछा क्या पहले कोई मुख्यमन्त्री अयोध्या आता था ? मैं डेढ वर्षमें छह बार आया । सडकोंको चौडा कराया । लटकते बिजली तारोंको अंडरग्राउंड किया गया । घाटोंको सुंदर बनाया । प्रधानमंत्री श्री मोदीने रामायण सर्किट योजनाके माध्यमसे नेपाल, भारत और श्रीलंकाको आपसमें जोडा । इतना ही नहीं प्रधानमन्त्री मोदीने ‘नमामि गंगे योजना’के माध्यमसे सरयू नदीको स्वच्छ करनेके लिए धनकी स्वीकृति दे दी है । अब इसमें गंदे नालोंका पानी नहीं गिरेगा । इस योजनाका आज शिलान्यास कर दिया गया है । रामकी पैडीको ‘हरकी पैडीकी भांति बनाया जाएगा । अभी तक अयोध्या विकासके लिए तडप रही थी । अब विकसित स्वरूपमें जगमगाती हुई दिखने लगी है । अयोध्याके विकासके अभी और नये आयाम स्थापित किये जाएंगे । उन्होंने देशवासियोंसे आग्रह किया कि इस बार दीपावलीमें भगवान रामके नामपर दीप जलाएं ।

“योगीजीके कार्य निस्सन्देह प्रशंसनीय है एवं अयोध्याकी ओर सरकार सकारात्मक दृष्टिसे देख रही है, परन्तु अयोध्याकी वास्तविक दृष्टि तो श्रीरामजीका देवालय है; अतः शासन त्वरित इसपर निर्णय लेकर देवालयका निर्माण करे, ऐसी हिन्दुत्वनिष्ठोंकी मांग है ।”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : लाइव हिन्दुस्तान



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution